Mann Ki Baat

PM Modi’s Mann ki Baat: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) हर माह 'मन की बात' (Mann Ki Baat) के जरिए देश की जनता से जुड़ते है। कार्यक्रम के माध्यम से वह देश की जनता से भी राय मांगते हैं। पीएम मोदी अपने कार्यक्रमों में कई सुझावों का जिक्र भी करते रहे हैं।

PM Modi: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) आज दशहरे के मौके पर देशवासियों से रेडियों के जरिये मन की बात (Mann Ki Baat) कर रहे हैं। सबसे पहले उन्होंने विजयादशमी की शुभकामनाएं दी।

Mann Ki Baat : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने शनिवार को लोगों से अपील की कि वे उनके मासिक रेडियो कार्यक्रम मन की बात (Mann Ki Baat) के लिए अपने विचारों और सुझावों को साझा करें।

Mann Ki Baat : मन की बात की शुरुआत में पीएम मोदीPM Modi) ने कोरोना(Corona) को लेकर कहा कि, कोरोना के इस कालखंड में पूरी दुनिया अनेक परिवर्तनों के दौर से गुजर रही है। आज, जब दो गज की दूरी एक अनिवार्य जरूरत बन गई है, तो इसी संकट काल ने, परिवारों के सदस्यों को आपस में जोड़ने और करीब लाने का काम भी किया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने रविवार को रेडियो कार्यक्रम मन की बात (Mann Ki Baat) के जरिए देशवासियों को संबोधित किया। अपने संबोधन में प्रधानमंत्री मोदी ने खिलौनों और मोबाइल गेम्स के मामले में आत्मनिर्भर बनने का आह्वान किया।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) रविवार यानि 30 अगस्त की सुबह 11 बजे रेडिया पर ‘मन की बात’ (Mann Ki Baat) कार्यक्रम को संबोधित करेंगे। इस दौरान पीएम मोदी देश की जनता के साथ अपने विचार साझा करेंगे।

पीएम मोदी ने रविवार को देशवासियों से मन की बात की। इस कार्यक्रम में मास्क, कोरोना जैसे विषयों पर उन्होंने अपनी बात रखी। इस कार्यक्रम में उन्होंने कई विषयों पर अपनी बात रखी। वो हर बार ऐसी कई घटनाओं और लोगों का जिक्र करते हैं जिनसे समाज को प्रेरणा मिलती है।

कोरोना काल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक बार फिर 26 जुलाई को अपने मासिक रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ के जरिए देशवासियों को संबोधित करेंगे। इसकी जानकारी उन्होंने खुद अपने ट्विटर हैंडल के जरिए दी है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को 'मन की बात' के दौरान दस प्रमुख मुद्दों पर चर्चा की। उन्होंने लद्दाख में सीमा विवाद पर चीन को चेतावनी देने से लेकर देश और समाज की कई प्रेरक कहानियों पर भी चर्चा की।

पीएम मोदी ने कहा कि इन सबके बीच, हमारे कुछ पड़ोसियों द्वारा जो हो रहा है, देश उन चुनौतियों से भी निपट रहा है I वाकई, एक-साथ इनती आपदाएं, इस स्तर की आपदाएं, बहुत कम ही देखने-सुनने को मिलती हैं।