Manohar Parrikar

साल 2019 में एनडीए गठबंधन को फिर से केंद्र की सत्ता मिल गई लेकिन भाजपा के कई दिग्गज नेताओं को खोने का दुःख भी इस साल पार्टी के हिस्से में आया।

गोवा के नवनियुक्त मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत बुधवार को 36 सदस्यों वाली विधानसभा में भारतीय जनता पार्टी की अगुआई वाली गठबंधन सरकार का बहुमत सिद्ध करेंगे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को गोवा के नवनियुक्त मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत को अपनी शुभकामनाएं दीं और विश्वास जताया कि वह राज्य के विकास को बढ़ावा देंगे।

गोवा में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की महिला इकाई की अध्यक्ष सुलक्षणा सावंत ने सोमवार रात राजभवन में शपथ ग्रहण समारोह के बाद संवाददाताओं से कहा, "हमारे लिए आज (सोमवार) का दिन मिली-जुली भावनाओं का दिन है। हमने अपने महान नेताओं में से एक मनोहर पर्रिकर को खोया जो हमारे लिए पिता समान थे।''

46 वर्षीय प्रमोद सावंत गोवा में बीजेपी के अकेले विधायक हैं जो आरएसएस काडर से हैं। मुख्यमंत्री बनने से पहले वो गोवा में पार्टी के प्रवक्ता और गोवा विधानसभा के अध्यक्ष रहे हैं।

गोवा के मुख्यमंत्री और देश के पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर का रविवार देर रात 63 वर्ष की उम्र में निधन हो गया। पर्रिकर एडवांस्ड पैंक्रियाटिक कैंसर से ग्रस्त थे, जिसका पता पिछले साल फरवरी में चला था. उसके बाद उन्होंने गोवा, मुंबई, दिल्ली और न्यूयॉर्क के अस्पतालों में इलाज कराया। भारत सरकार ने सोमवार को देश में राष्ट्रीय शोक का ऐलान किया है, इस दौरान सरकारी दफ्तरों में तिरंगा आधा झुका रहेगा।

गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर की सादगी और आखिरी वक्त तक जज्बे के साथ देश सेवा के लिए उन्हें हमेशा याद किया जाएगा। वो पैंक्रियाटिक कैंसर से पीड़ित थे और वह इस बीमारी से फरवरी 2018 से जूझ रहे थे।

एडवांस स्टेज में पैन्क्रियाटिक कैंसर के बारे में पता चलने पर उसका उपचार शुरू भी कर दिया जाए तो मरीज के पूरी तरह ठीक होने की उम्मीद बहुत कम होती है। बता दें, पैनक्रियाज हमारे शरीर का बेहद जरूरी अंग होते हैं और इसमें आई कोई भी खराबी हमारी सेहत को बहुत बुरी तरह प्रभावित करती है।

गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर का रविवार को निधन हो गया। भारत के रक्षा मंत्री के रूप में भी उन्होंने काम किया था। बतौर रक्षामंत्री उनका कार्यकाल छोटा था लेकिन भारत की कई अहम सफलताओं में उनका नाम जुड़ा हुआ है।

पर्रिकर फरवरी 2018 से बीमारी से पीड़ित थे। उनके निधन की खबर के बाद, राजकीय शोक की घोषणा की गई थी। कल राज्य के सभी स्कूलों और संस्थानों के साथ-साथ सरकारी कार्यालयों में भी छुट्टी की घोषणा की गई।