masood azhar

अमेरिका के स्थाई प्रतिनिधि जोनाथन कोहेन ने सोमवार को परिषद को बताया, "अजहर को इस सूची में शामिल किया जाना दिखाता है कि अंतर्राष्ट्रीय समुदाय आतंकवादियों को उनके कृत्यों के लिए जवाबदेह ठहरा सकता है और ठहराएगा।"

कपिल सिब्बल ने कहा कि 26/11 के बाद 11 दिसंबर 2008 को जमात-उद-दावा प्रमुख हाफिज सईद को कुछ अन्य लश्कर-ए-तैयबा (एलईटी) कमांडरों जैसे जकी-उर रहमान लखवी व मोहम्मद अशरफ के साथ आतंकवादी घोषित किया गया था।

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने गुरुवार को कहा कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद(यूएनएससी) द्वारा जैश-ए-मोहम्मद (जेईएम) प्रमुख मूसद अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित करना भारत और इसकी कूटनीति के लिए एक 'बड़ी जीत' है।

जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर के ग्लोबल आतंकी घोषित होने के बाद पहली प्रतिक्रिया देते हुए पीएम मोदी ने कहा कि अभी-अभी संयुक्त राष्ट्र से खबर आ रही है कि कुख्यात आतंकवादी मसूद अज़हर पर प्रतिबन्ध लगा दिया है। आतंकवाद के खिलाफ संघर्ष में और आतंकवाद को जड़ से उखाड़ने के लिए लम्बे समय से भारत जो प्रयास कर रहा था, ये उसकी बहुत बड़ी सफलता है। यह देश के लिए गौरव की बात है।

पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद का सरगना मसूद अजहर के मामले में आज जहां भारत को एक बड़ी सफलता मिल सकती है, वहीं चीन को तगड़ा झटका लग सकता है। मीडिया में आई रिपोर्ट्स के मुताबिक, संयुक्त राष्ट्र आज पुलवामा आतंकी हमलों के जिम्मेदार जैश चीफ को ग्लोबल आतंकी घोषित कर सकता है।

भारत का इसे लेकर साफ कहना है कि चीन की यह योजना उसकी संप्रभुता का उल्लंघन करती है। पाकिस्तान के साथ मिलकर चीन ने चीन-पाकिस्तान इकोनॉमिक कॉरिडोर (सीपीईसी) बनाया है जो विवादित गिलगित-बलिस्तान क्षेत्र से होकर गुजरती है।

चीन ने बुधवार को कहा कि वह पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद (जेईएम) के प्रमुख मसूद अजहर को काली सूची में डालने के मुद्दे पर कड़ी परिश्रम कर रहा है। इसके साथ ही चीन ने अमेरिका को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में खुद का मसौदा प्रस्ताव पेश करने को लेकर एक बार फिर चेतावनी दी है।

पुलवामा हमले के गुनहगार और आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर को राष्ट्रीय लोक दल के विधायक हाजी सुभान ने ‘साहब’ कहकर संबोधित किया है। बिहार के किशनगंज में एक जनसभा में आरजेडी विधायक का यह बयान सामने आया। इस दौरान मंच पर आरजेडी नेता तेजस्वी यादव भी मौजूद थे। साथ ही विधायक हाजी सुभान ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर भी सवाल उठाए।

मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने को लेकर अमेरिका और चीन आमने-सामने आ गए हैं। जहां अमेरिका, फ्रांस, ब्रिटेन और भारत समेत कई देश आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादियों की सूची में शामिल कराने की सभी कोशिशें कर रहे हैं, तो चीन और पाकिस्तान उसको बचाने में जुटे हुए हैं।

हिंसक इस्लामिक आतंकी संगठनों को यूएन के प्रतिबंध से बचाने के लिए अमेरिका ने चीन को खरी खोटी सुनाई है। अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो ने चीन की आलोचना करते हुए कहा कि चीन अपने घर में लाखों मुस्लिमों को प्रताड़ित करता है, लेकिन हिंसक इस्लामिक आतंकी संगठनों को यूएन के प्रतिबंध से बचाता है।