masood azhar

बीजिंग। चीन ने मंगलवार को अंतर्राष्ट्रीय समुदाय से कहा कि वह कश्मीर के पुलवामा में आत्मघाती हमले को लेकर पाकिस्तान...

पुलवामा हमले के लिए जिम्मेदार आतंकी मसूद अजहर को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में बचाने वाले चीन के प्रॉडक्ट्स के बॉयकॉट की उठ रही मांग के बीच पड़ोसी देश की मीडिया ने भारत को चुनौती देते हुए तंज कसा है। चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स का कहना है कि भारतीय मैन्युफैक्चरिंग इंडस्ट्री अभी भी अविकसित है और इसमें प्रतिद्वंद्विता की क्षमता नहीं है। यही कारण है कि भारत में 'बॉयकॉट चाइनीज प्रॉडक्ट्स' मुहिम अब तक असफल रहा है।

पुलवामा हमले के गुनहगार आतंकी मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने की भारत की मुहिम का असर दिखने लगा है। चौतरफा दबाव के बीच चीन ने भी अब इस मुद्दे पर नरमी के संकेत दिए हैं।

संयुक्त राष्ट्र में जैश सरगना मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित करने प्रस्ताव पर चीन द्वारा वीटो करने के बाद फ्रांस ने इस आतंकवादी सरगना पर अब खुद से ऐक्शन लेने का फैसला कर लिया है।

जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने को लेकर भारत पाकिस्तान को विश्व स्तर पर घेर रहा है। अब पाकिस्तान में विपक्ष के नेता और पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी के चेयरमैन बिलावल भुट्टो जरदारी ने भी इमरान खान को निशाने पर लिया है। उन्होंने इमरान खान से पूछा कि दूसरे देशों में हमला करने वाले आतंकी पाकिस्तान में खुलेआम कैसे घूम रहे हैं

विदेश मंत्री स्वराज ने साफ किया कि, इस बार हम आतंकवाद पर बात नहीं बल्कि कार्रवाई चाहते हैं। बातचीत और आतंकवाद दोनों एकसाथ नहीं चल सकते।

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद की जेनेवा में जारी 40वें बैठक सत्र के दौरान एक बार फिर भारत और पाकिस्तान के बीच तीखी ज़ुबानी जंग देखने को मिली। पुलवामा हमले के बाद हो रहे इस ताज़ा सत्र के दौरान भारत ने ना केवल पाकिस्तान की तरफ से चलाए जा रहे सीमापार आतंकवाद को मानवाधिकारों का सबसे बड़ा दुश्मन करार दिया बल्कि जैश-ए-मोहम्मद जैसे आतंकी संगठनों को पालने-पोसने की नीति पर इस्लामाबाद को बेनकाब भी किया।

अमेरिकी विदेश विभाग के एक अधिकारी ने कहा कि आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद (जेईएम) के सरगना मसूद अजहर को संयुक्त राष्ट्र द्वारा अंतर्राष्ट्रीय आतंकवादी घोषित करने पर चीन का विरोध क्षेत्रीय स्थिरता पर अमेरिका के साथ इसके पारस्परिक लक्ष्य के विपरीत है। 

आतंकवादी संगठन 'जैश-ए-मोहम्मद' के सरगना मसूद अजहर के नाम के साथ 'जी' लगाए जाने के खिलाफ मंगलवार को बिहार की एक अदालत में परिवाद पत्र दाखिल कर कार्रवाई करने की मांग की गई है।

पुलवामा हमले के गुनहगार और आतंकी सरगना मसूद अजहर पर आज बैन लग सकता है। अतंर्राष्ट्रीय बिरादरी इस खूंखार आतंकी को ग्लोबल टेररिस्ट करार देकर पाबंदी लगा सकती है, बशर्ते अगर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के किसी भी सदस्य देश ने आपत्ति नहीं जताई तो आज शाम तक इस आतंकी को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रतिबंधित किया जा सकता है।