mayawati

40 प्रचारकों की सूची में भी मुलायम सिंह का नाम नहीं होने के बाद सियासी गलियारों में अलग-अलग तरह की चर्चाएं हैं। राजनीति के जानकार तो अब यह तक कहने लगे हैं कि मुलायम सिंह यादव को लेकर पार्टी का भरोसा कमजोर हुआ है।

समाजवादी पार्टी (एसपी) के अध्यक्ष अखिलेश यादव की लोकसभा सीट को लेकर जारी अटकलों पर अब विराम लग गया है। एसपी की तरफ से जारी नई सूची में अब साफ हो गया है कि अखिलेश यादव आजमगढ़ की सीट से लोकसभा का चुनाव लड़ेंगे।

बसपा सुप्रीमो मायावती ने अपने उम्मीदवारों के नाम की घोषणा कि है। बता दें, बसपा ने 11 उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी कर दी है। अमरोहा से दानिश अली को टिकट मिला है।

बहुजन समाज पार्टी (बसपा) ने शुक्रवार को लोकसभा चुनाव के पहले चरण के लिए 20 स्टार प्रचारकों की सूची जारी की है। बसपा प्रमुख ने अपने भतीजे आकाश आनंद को भी स्टार प्रचारक बनाया है। आकाश युवा चेहरा हैं और वे पार्टी से नौजवानों को जोड़ने का काम करेंगे।

उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और बहुजन समाज पार्टी (बसपा)  सुप्रीमो मायावती ने ऐलान किया है कि वह इस बार लोकसभा चुनाव नहीं लड़ेंगी। उन्होंने कहा कि अभी मेरे जीतने से ज्यादा गठबंधन की सफलता ज्यादा जरूरी है।

मायावती पर टिप्पणी करते हुए कहा कि मायावती हमारे नेता पर शौक़ीन होने के आरोप लगाने से पहले अपने गिरेवान में झाँक लेती तो ठीक था। जो महिला रोज फेशियल कराती हो वो महिला किसी के शौक़ीन होने पर सवाल कर रही है। विधायक सुरेंद्र नारायण सिंह ने कहा कि मायावती खुद रोज फेशियल करवाती हैं।

मायावती ने दो टूक कहा है कि भारतीय जनता पार्टी को शिकस्तत देने के लिए सपा-बसपा का गठबंधन ही काफी है। इसके साथ ही उन्होंतने कांग्रेस को चेतावनी देते हुए कहा कि वह जबरदस्ती सीट छोड़ने का भ्रम न फैलाए।

2007 से 2012 के बीच बसपा शासनकाल के दौरान नेतराम प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री के तौर पर तैनात थे और ताकतवर अफसरों में उनकी गिनती होती थी। बताया जाता है कि कैबिनेट मंत्रियों को भी नेतराम से मिलने के लिए मुख्यमंत्री से मिलने की तरह समय लेना पड़ता था।

लोकसभा चुनाव से पहले विपक्षी महागठबंधन की योजना को झटका देते हुए बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की अध्यक्ष मायावती ने यहां मंगलवार को कहा कि उनकी पार्टी कांग्रेस के साथ किसी भी राज्य में गठबंधन नहीं करेगी।

लोकसभा चुनाव की घोषणा के साथ भविष्यवाणियों का दौर भी शुरू हो गया है। चुनावी मौसम में ज्योतिषियों की चांदी हर बार देखी गई है। एक ज्योतिषी को ग्रहदशा धर्म की राजनीति करनेवाली पार्टी के पक्ष में दिखाई दे रही है। उनका कहना है कि नरेंद्र मोदी दोबारा प्रधानमंत्री बनेंगे।