MNS

मुंबई की भाषा हिन्दी कहने पर आपत्ति जताते हुए शो का राज ठाकरे की पार्टी महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना(मनसे) ने विरोध किया है।

महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) के अध्यक्ष राज ठाकरे द्वारा रविवार दोपहर निकाले गए मेगा-मार्च में करीब एक लाख से अधिक लोगों ने हिस्सा लिया।

उद्धव ठाकरे ने अपने मुखपत्र सामना में राज ठाकरे और उनकी राजनीति को लेकर तंज कसा और उनके द्वारा पार्टी का झंडा और नारा बदलने पर सवाल भी उठाया।

शिवाजी से पहले, मराठों की मुहरें फारसी में हुआ करती थी। शिवाजी ने सांस्कृतिक प्रवृत्ति शुरू की, जिसका अनुपालन उनके वंशजों और अधिकारियों ने किया। अब इसी राह पर राज ठाकरे चलते हुए नजर आ रहे हैं।

मनसे अध्यक्ष राज ठाकरे ने राज्य में हालिया राजनीतिक घटनाक्रम को लोगों का अपमान बताया। साथ ही पूर्ववर्ती भाजपा-शिवसेना गठबंधन पर भी हमला बोला। उन्होंने कहा कि शिवसेना और भाजपा ने जनता की भावनाओं का अपमान किया है।

महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) राज्य में 21 अक्टूबर को होने जा रहे विधानसभा चुनाव में उतरेगी। पार्टी प्रमुख राज ठाकरे ने सोमवार को यह घोषणा की। पार्टी अधिकारियों के साथ बैठक के दौरान राज ठाकरे ने कहा, "हम विधानसभा चुनाव लड़ेंगे और जीतेंगे भी। सीटों और उम्मीदवारों की घोषणा आने वाले दिनों में की जाएगी।"

ईडी की पूछताछ से पहले राज ठाकरे ने कार्यकर्ताओं से शांति बनाए रखने की अपील की है। बुधवार को शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे उनके समर्थन में उतर आए। उद्धव ने कह कि मुझे नहीं लगता कि पूछताछ में कुछ सामने आएगा।

सत्तारूढ़ सहयोगी शिवसेना नेता के बेटे सोमवार को ईडी के सामने पेश हुए थे। वहीं, अब महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) के अध्यक्ष राज ठाकरे को गुरुवार को यहां ईडी मुख्यालय में पेश होने को कहा गया है।

राज ठाकरे ने चुनाव आयोग को देश में चुनाव प्रक्रिया में विश्वास बहाल करने के बारे में खत लिखा। उन्होंने लिखा, पिछले कुछ साल में देश में अपनाई गई चुनाव प्रक्रिया और ईवीएम के इस्तेमाल पर कई लोग असंतुष्टि जाहिर कर चुके हैं।

राज्य चुनाव कार्यालय (एसईओ) ने स्पष्ट किया कि इसने सभी राजनीतिक दलों को नियम और कानूनों के अनुसार रैलियां करने की अनुमति दी है।