MP government

मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) की शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chouhan) सरकार ने मंगलवार को बड़ा ऐलान किया है। दरअसल शिवराज सरकार ने ऐलान किया है कि मध्य प्रदेश सरकार की सभी नौकरियां अब मध्य प्रदेश का डोमिसाइल रखने वालों के लिए आरक्षित होंगी।

कमलनाथ सरकार ने कई आईएएस व आईपीएस का ट्रांसफर भी कर दिया है। एस.आर. मोहंती सहित कई अधिकारी इधर से उधर किए गए। इससे पहले कमलनाथ सरकार राज्य के डीजीपी विवेक जौहरी का कार्यकाल भी बढ़ा चुकी है।

मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार के विश्वास मत का सवाल अब सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया है। मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है।

कमलनाथ के नेतृत्व वाली मध्य प्रदेश सरकार ने राज्य में महिलाओं के लिए अलग से शराब की दुकानें खोलने का फैसला लिया है।

चौतरफा विरोध के बाद आखिरकार मध्यप्रदेश की कमलनाथ सरकार ने कर्मचारियों को नसबंदी का टारगेट देने वाला आदेश वापस ले लिया है। मध्य प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट ने यह जानकारी दी।

कांग्रेस पार्टी नेता दिग्विजय सिंह उन्हें देखने अस्पताल गए थे। इस दौरान दिग्विजय सिंह की बातों से लग रहा था कि, वो कहना चाह रहे थे कि प्रदेश की सरकारी अस्पतालों की स्थिति काफी ज्यादा बिगड़ी है। 

मध्यप्रदेश में ज्योतिरादित्य सिंधिया ने एक बार फिर से मुख्यमंत्री कमलनाथ पर वार किया है। सिंधिया ने इस बार बिजली कटौती से लेकर गौशाला तक कमलनाथ को उनके वादों की याद दिलाई है।

मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार एक बार फिर से मुश्किल में है। जिन किसानों के कर्ज माफ करने का वादा कर उसने चुनाव जीता था वही किसान उसके खिलाफ उठ खड़े हुए हैं।

लेकिन कमलनाथ के राज में गरीबों की स्थिति कैसी है इसकी एक हालिया तस्वीर सामने आई है, जहां अस्पताल में एक 8 साल के मासूम भूख की वजह से मौत हो जाती है।

इस स्थिति पर कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी दीपक बावरिया ने चिंता जताई, साथ ही उन्होंने मंत्रियों और नेताओं को चेतावनी दी कि वे कार्यकर्ताओं की उपेक्षा न करें।