Mulayam Singh Yadav

Uttar Pradesh: समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) हमेशा से अयोध्या में श्री राम मंदिर बनने का विरोध करती रही है। मुलायम सिंह की हिन्दुत्ववादी संगठन और कई लोग आलोचना भी करते आए हैं क्योंकि जब 2 नवंबर, 1990 को अयोध्या में कारसेवकों ने रैली की थी, तब उन्होंने पुलिस को गोली चलाने का आदेश दिया था, जिसमें कई कारसेवकों की भी मौत हो गई थी। उस समय वह उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री थे।

समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के संरक्षक और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव का आज यानी 22 नवंबर जन्मदिन (Mulayam Singh Yadav Birthday) है। वो आज 82 साल के हो गए है।

Uttar Pradesh by election: समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के संरक्षक मुलायम सिंह यादव (Mulayam Singh Yadav) का कोविड परीक्षण पॉजिटिव आने के बाद से वे गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में भर्ती हैं और सांसद मोहम्मद आजम खान अभी भी जेल में हैं। इसके बाद भी 3 नवंबर को होने जा रहे उप-चुनावों के लिए स्टार प्रचारकों की सूची में इन दोनों के नाम हैं।

Samajwadi Party: अगस्त में भी तबीयत बिगड़ने पर मुलायम सिंह यादव (Mulayam Singh Yadav) को मेदांता में भर्ती कराया गया था। 80 साल के मुलायम को मूत्रनली में संक्रमण के बाद अस्पताल ले जाया गया था। हालत में सुधार होने के बाद उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई थी।

दरअसल प्रगतिशील समाजवादी पार्टी(PSP) के अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव(Shivpal Yadav) ग्रामीण विकास बैंक(Cooperative Village Development Bank) के सभापति रहे हैं, जिसकी वजह से यह चुनाव बीजेपी(BJP) के लिए बड़ी चुनौती मानी जा रही है।

डॉ. कपूर का कहना है कि सपा संरक्षक का इलाज डॉक्टरों की नगरानी में चल रहा है। उनका अल्ट्रासाउंड, ब्लड टेस्ट और यूरिन टेस्ट किया गया है। पेटदर्द कम हुआ है और हालत स्थिर है। उन्होंने कहा कि सभी रिपोर्टो के मूल्यांकन के बाद ही कुछ कहा जा सकता है।

प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने याचिका वापस लेने पर समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव का आभार जताया है।

मेदांता अस्पताल के निदेशक डॉ. राकेश कपूर ने कहा, "उनकी आंतों में सूजन है, फिलहाल उनकी हालत स्थिर हैं और उन्हें जल्द ही स्वस्थ हो जाना चाहिए। गैस्ट्रो-सर्जन उनके स्वास्थ्य की निगरानी कर रहे हैं।"

समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव की तबीयत खराब हो गई है। उन्हें यहां के मेदांता अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

एक तरफ जहां पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव, सीएए और एनआरसी का विरोध कर रहे हैं तो वहीं उन्हीं की परिवार की सदस्य इसका समर्थन कर रही हैं। समाजवादी पार्टी के सरंरक्षक मुलायम की छोटी बहू अपर्णा यादव ने इसे लेकर ट्वीट किया है।