Mulayam Singh Yadav

गौरतलब है कि आजम खान और मुलायम सिंह यादव के बीच करीब 30 साल से भी पुरानी दोस्ती हैं, 1992 में जब मुलायम ने जनता दल से नाता तोड़ कर समाजवादी पार्टी का गठन किया था तो आजम खान मजबूती से उनके साथ खड़े रहे थे।

मायावती की तानाशाही और भाई-भतीजावाद से नाराज़ ये धड़ा भी पाला बदलकर बीजेपी में जा सकता है। इस तरह बीजेपी जल्द ही बहुमत के करीब पहुंच सकती है।

यूपी की राजधानी लखनऊ में गोमती नदी के आसपास सफाई को लेकर योगी सरकार के तेवर खासे सख्त हैं। समीक्षा बैठक के दौरान मु्ख्यमंत्री ने कहा कि जिन चार अधिकारियों की लापरवाही से नगर निगम पर एनजीटी ने दो करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया, अब उन्हीं अफसरों से ये राशि वसूल की जाएगी।

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को समाजवादी पार्टी के संस्थापक मुलायम सिंह यादव से मुलाकात की। रविवार को मुलायम सिंह यादव की तबियत अचानक बिगड़ गई थी, जिसके बाद उन्हें लखनऊ के राम मनोहर लोहिया अस्पताल में भर्ती कराया गया था। इस बैठक में यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव भी मौजूद रहे और मुलायम सिंह के भाई शिवपाल भी मौजूद रहे।

सुल्तानपुर से बीजेपी सांसद वरुण गांधी ने शनिवार को अपने संसदीय क्षेत्र में अपनी मां मेनका गांधी के लिए जमकर चुनाव प्रचार किया। प्रचार के दौरान अखिलेश यादव और मुलायम सिंह पर विवादित टिप्पणी करते हुए वरुण ने कहा कि जो लोग 15-20 साल पहले सैफई में गोबर के कंडे उठाते थे, वो आज पांच करोड़ की गाड़ी से चल रहे हैं।

समाजवादी पार्टी (सपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव चाहते हैं कि इस चुनाव में पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव देश के प्रधानमंत्री बनें। इस बात का उन्होंने संकेत भी दिया है।

मैनपुरी में समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव चुनाव मैदान में हैं। रामपुर में पूर्व मंत्री आजम खां व पूर्व सांसद जया प्रदा के बीच मुकाबला है। पीलीभीत में सांसद वरुण गांधी एवं बरेली में केंद्रीय मंत्री संतोष गंगवार अपनी किस्मत आजमा रहे हैं।

24 साल बाद आज सपा संरक्षक मुलायम सिंह और बसपा सुप्रीमो मायावती ने मंच साझा किया। मैनपुरी में आज मायावती, मुलायम सिंह यादव के लिए प्रचार करने पहुंची। इस रैली में अखिलेश यादव भी शामिल हुए।

उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और  बहुजन समाज पार्टी (बसपा) सुप्रीमो मायावती आज सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव के साथ मैनपुरी में चुनाव प्रचार करेंगी। मैनपुरी की जनता के लिए तो यह ऐतिहासिक पल होगा जब 24 साल बाद मायावती सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव के लिए वोट मांगेंगी।

आलोचना के बाद आजम खान ने अपने बचाव में कहा कि, "मैंने किसी का नाम नहीं लिया है। मैं जानता हूं कि मुझे क्या कहना चाहिए, अगर कोई साबित कर देता है कि मैंने कहीं, किसी का नाम लिया है