narendra modi

Twitter Engagement: राजनीतिक श्रेणी में नरेंद्र मोदी (Narendra Modi), अमित शाह (Amit Shah), योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) के बाद क्रमवार राहुल गांधी और तेजस्वी यादव ने जगह बनाई है। आपको बता दें कि इस पूरी रिपोर्ट को देखें तो पता चलेगा कि राजनीतिक कैटेगरी में नरेंद्र मोदी नंबर एक पर हैं जिनकी ट्वीटर पर सक्रियता 76,65,669 दिखाई गई है।

Farmers Protest: कांग्रेस (Congress) नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) सरकार द्वारा बनाए गए 3 कृषि कानूनों का विरोध कर रही है और कह रही है कि इससे देश के किसानों को नुकसान होगा। ऐसे में वह किसानों के साथ खड़े हैं। जबकि राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ये तक बोल चुके हैं कि किसान किसी भी हालत में आंदोलन खत्म नहीं करेंगे। सरकार को अपने अंदर से ये बात निकाल देनी चाहिए की कृषि कानूनों को खारिज करने से कम पर किसान मानने वाले नहीं हैं। ऐसे में भाजपा की तरफ से वामदलों और कांग्रेस को इस आंदोलन में आग में घी डालने वाला बताया जा रहा है।

Farmers Protest: किसान दिवस के मौके पर केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर (Narendra Singh Tomar) ने भी एक उच्च स्तरीय बैठक की और इसके बाद उन्होंने मीडिया से बताया कि KCC का विषय वाजपेयी जी के समय में आया था और उस समय किसान क्रेडिट कार्ड शुरू हुआ था, अभी तक 6 लाख करोड़ रुपये का ऋण प्रवाह कृषि क्षेत्र में होता था, मोदी जी ने इसे बढ़ाकर 15 लाख करोड़ रुपये किया।

Farmers Law: कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर (Narendra Singh Tomar) से मिलने किसानों का एक और दल पहुंचा था। जिसके बारे में खुद नरेंद्र सिंह तोमर ने बताया कि ये किसान संगठन के नेता किसी भी हाल में कृषि कानूनों (agricultural law) में किसी तरह का संशोधन नहीं चाहते हैं। इनके अनुसार इन कृषि कानूनों में संशोधन से किसानों का नुकसान होगा। वह जस-के-तस इन कृषि कानूनों को अंगीकार करना चाहते हैं।

पीएम नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने कहा कि हाल में ही भारत ने वैभव समिट भी होस्ट की थी। महीने भर चली इस समिट में पूरी दुनिया से भारतीय मूल के वैज्ञानिकों और रिसर्चर को एक मंच पर इकट्ठा किया गया। इसमें करीब 23 हजार साथियों ने हिस्सा लिया, 700 घंटों से ज्यादा की डिस्कशन हुई।

Farmers Protest: एक तरफ जहां किसान नए कृषि कानून (Agriculture law) के खिलाफ इस कड़ाके की सर्दी में प्रदर्शन कर रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ कुछ किसान इन कानूनों का समर्थन भी कर रहे हैं। रविवार को पश्चिमी यूपी के किसानों ने कृषि भवन में कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर से मुलाकात की और नए कानूनों का समर्थन करते हुए ज्ञापन सौंपा।

Farmers Protest: कृषि कानून (Agriculture law) के विरोध में किसान सड़कों पर हैं। आज किसान आंदोलन का 25 वां दिन है। ऐसे में किसानों की एक ही मांग है कि इन तीनों कृषि कानूनों को समाप्त किया जाए और फिर सरकार के साथ बैठकर वह बातचीत करेंगे।

किसान आंदोलन की आग सुप्रीम कोर्ट के दरवाजे पर भी दस्तक भी दे चुकी है। इस आंदोलन को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने चिंता जाहिर करते हुए इसपर कमेटी बनाने की भी बात की है। इससे पहले कच्छ पहुंचे पीएम नरेंद्र मोदी ने वहां के किसानों से मुलाकात भी की थी। वहीं आज पीएम मोदी मध्य प्रदेश के किसानों को संबोधित कर रहे हैं।

Farmers Protest: केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर (Narendra Singh Tomar) ने यह चिट्ठी किसानों के नाम संबोधन में लिखी है। इस पत्र में नरेंद्र सिंह तोमर ने किसान भाईयों को संबोधित करते हुए लिखा है। सभी किसान भाइयों और बहनों से मेरा आग्रह ! "सबका साथ सबका विकास सबका विश्वास" के मंत्र पर चलते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में हमारी सरकार ने बिना भेदभाव सभी का हित करने का प्रयास किया है। विगत 6 वर्षों का इतिहास इसका साक्षी है।

Uttar Pradesh: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने उद्यमियों और निवेशकों से आह्वान किया कि वे सभी देश की अर्थव्यवस्था को 5 ट्रिलियन डॉलर और उत्तर प्रदेश की अर्थव्यवस्था को 1 ट्रिलियन डॉलर बनाने के लक्ष्य को पूरा करने में अपना सहयोग प्रदान कर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) के सपने को साकार करें।