NASA

नासा ने गुरुवार को मंगल मिशन ‘मार्स 2020’ लॉन्च किया। नासा का यह मिशन इस साल दुनिया का तीसरा मंगल मिशन है।

केन्द्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय के तहत काम करने वाला नैनीताल के आर्य भट्ट प्रेक्षण विज्ञान शोध संस्थान (एरीज) के मुताबिक इस सूर्यग्रहण को अफ्रीका, एशिया और यूरोप के कई देशों के साथ ही उत्तर भारत में भी देखा जा सकेगा।

नदियों का पानी साफ हो रहा है। भारत की आबोहवा में सुधार हुआ है अब अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने भी इस बात की पुष्टि कर दी है। 

इस सूर्यग्रहण को लेकर नासा की तरफ से कहा गया है कि, यह सूर्य ग्रहण जितना सुंदर होगा, उतना ही खतरनाक भी होगा, इसलिए सूर्य ग्रहण के दौरान नंगी आंखों से सूर्य ग्रहण की तरफ न देखें। यही नहीं इसको देखने के समय विशेष सावधानी बरतें।

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के प्रमुख के सिवन ने कहा कि हमने पहले ही विक्रम लैंडर को ढूंढ लिया था। सिवन ने कहा, नासा से पहले हमारे ऑर्बिटर ने विक्रम लैंडर को ढूंढा था और इसकी जानकारी हमने अपनी वेबसाइट पर भी डाली थी। आप वहां जाकर देख सकते हैं।

चंद्रयान 2 की लांचिंग के वक्त हादसे का शिकार हुए विक्रम लैंडर के मलबे को आखिर ढूंढ निकाला गया है। करीब तीन महीने बाद विक्रम लैंडर का मलबा चांद की सतह पर मिला है। इससे ढूंढने में सबसे बड़ी भूमिका चेन्नई के एक इंजीनियर ने निभाई है।

अंतरिक्ष में रुचि लेने वाले एक भारतीय द्वारा अमेरिका के ऑर्बिटिंग कैमरा से चंद्रमा की तस्वीरों का निरीक्षण करने के बाद नासा ने कहा कि उसे भारतीय चंद्रयान-2 विक्रम लैंडर का दुर्घटनास्थल और मलबा मिला है।

भारत के भारी रॉकेट, जियोसिंक्रोनस सैटेलाइट लांच व्हिकल-मार्क 3 ने 22 जुलाई को 978 करोड़ रुपये लागत का एक टेक्स्ट बुक स्टाइल का चंद्रयान-2 अंतरिक्ष में लांच किया था।

दिल्ली सरकार ने अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा द्वारा जारी की गई एक तस्वीर साझा की है, जिसमें दिल्ली के आसपास के राज्यों में बड़े पैमाने पर पराली जलती हुई दिख रही है।

ह्यूंदै ने अपने एयर मोबिलिटी डिविजन का हेड नासा के अनुभवी एयरोनॉटिक्स इंजीनियर डॉक्टर जयोन शिन को बनाया है। शिन हाल में नासा के एरोनॉटिक्स रिसर्च मिशन डायरेक्टरेट के प्रमुख रहे हैं।