nawab malik

महाराष्ट्र की उद्धव ठाकरे सरकार ने बड़ा फैसला लेते हुए प्रदेश के सरकारी स्कूलों और कॉलेजों में मुस्लिमों को 5 फीसदी आरक्षण देने का फैसला किया है। एनसीपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता और महाराष्ट्र के अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री नवाब मलिक ने कहा कि जल्द ही इसे विधानसभा से पारित किया जाएगा।

महाराष्ट्र में राज्यपाल ने भाजपा-शिवसेना के बाद अब एनसीपी से पूछा है कि क्या उनकी पार्टी सरकार बनाने को तैयार है। सबसे पहले बड़ी पार्टी भाजपा और फिर दूसरी बड़ी पार्टी शिवसेना को इस बारे में पूछा गया था लेकिन भाजपा ने सरकार बनाने से साफ इनकार कर दिया।

महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर जारी घमासान के बीच कांग्रेस ने एक बार फिर से शिवसेना को चकमा दिया है। शिवसेना को राज्यपाल की तरफ से 24 घंटे का वक्त दिया गया था। लेकिन आज शाम तक शिवसेना की तरफ से समर्थन की चिट्ठी राज्यपाल को नहीं सौंपी जा सकी।

वैसे महाराष्ट्र की राजनीति में मुख्यमंत्री के पद को लेकर जैसी उठा-पटक देखने को मिल रही है, ये महाराष्ट्र का चरित्र है। अगर इतिहास के पन्ने पलटें तो मिलेगा कि महाराष्ट्र में हर चुनाव में मुख्यमंत्री पद को लेकर झगड़ा हुआ है। तमाम कोशिशों के बाद अगर कोई मुख्यमंत्री बना थी, तो वह ज्यादा समय तक टिक नहीं सका।

महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर सियासी घमासान जारी है। इस बीच एनसीपी ने शिवसेना का समर्थन करने की बात कही है, हालांकि ऐसा करने से पहले वह कांग्रेस पार्टी के फैसले का इंतजार कर रही है। एनसीपी का कहना है कि कांग्रेस जो भी फैसला करेगी उसके मुताबिक ही वह अपना रुख तय करेगी।

सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे ने राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रवक्ता नवाब मलिक को कानूनी नोटिस भेजा है। एक चैनल के कार्यक्रम में नवाब ने आरोप लगाया था कि अन्ना हजारे पैसे लेकर अपना अनशन वापस लेते हैं। अन्ना हजारे की ओर से उनके वकीलों ने नोटिस भेजकर नवाब मलिक से कहा है कि वह सार्वजनिक रूप से माफी मांगें या फिर कानूनी लड़ाई के लिए तैयार रहें।