NSA

370 हटने के बाद कश्मीर में पहली बार कोई विदेशी प्रतिनिधिमंडल कदम रखने जा रहा है।  कश्मीर के लिहाज से यह एक बड़ा कदम होगा। इस प्रतिनिधिमंडल में यूरोपियन संसद के सदस्य शामिल हैं।

इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आतंकवादियों का समर्थन करने वाले और उन्हें बढ़ावा देने वाले लोगों को खिलाफ जीरो टॉलरेंस की नीति पर काम होना चाहिए।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, मंगलवार को एयर फोर्स वन में रिपोर्टर्स से बात करते हुए ट्रंप ने कहा कि उन्होंने पांच लोगों को अंतिम सूची में रखा है।

पीएम दफ्तर ने पीएमओ के इन दो सबसे ताकतवर अधिकारियों के बीच कामकाज की स्थिति स्पष्ट कर दी है। इसके साथ ही नेशनल सेक्योरिटी एडवाइजर अजित डोभाल के काम के एरिया को भी स्पष्ट कर दिया गया है।

बता दें कि अब चीन के विदेश मंत्री शनिवार को पाकिस्तान में होंगे, जहां पाकिस्तान-अफगानिस्तान-चीन की त्रिपक्षीय वार्ता होगी। इसके बाद रविवार को वह नेपाल दौरे पर होंगे।

स्टेडियम में रंगारंग कार्यक्रमों का भी आयोजन किया गया। लोग अपने हाथों में तिरंगा झंडा लेकर कार्यक्रम में मौजूद रहे। अलगाववादियों को उम्मीद थी कि स्थानीय लोग आजादी के इस कार्यक्रम का विरोध करेंगे मगर स्टेडियम में आई भीड़ ने उनकी उम्मीदों पर पानी फेर दिया।

NSA अजीत डोभाल ने ईद पर J&K पुलिस के साथ खाया खाना

वह इलाके का माहौल भांपने के लिए सड़क पर उतरे। इसी दौरान उनकी मुलाकात बकरीद के लिए भेड़ें बेचने आए चरवाहों से हो गई। डोभाल ने चरवाहे से कुछ देर तक बात की।

जहां 370 खत्म होने के बाद पड़ोसी देश पाकिस्तान बौखलाहट में है और वहां के नेता उटपटांग बयान देने से बाज नहीं आ रहे हैं। तो वहीं भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल कश्मीर के दौरे पर पहुंच गए हैं।

लोग अब इस बात को भी महसूस कर रहे हैं कि कश्मीर के नेताओं ने अपने स्वार्थों की खातिर उन्हें गुमराह किया और 370 को खत्म नहीं होने दिया। इसी के चलते कश्मीर में बड़ी इंडस्ट्रीज नहीं आ सकी।