NSUI

Congress Self Goal: ऐसे में कांग्रेस(Congress) की अब सोशल मीडिया(Social Media) पर फजीहत हो रही है। ABVP का कहना है कि, कांग्रेस ने जिस फोटो को अपना बताया है, दरअसल असल में उसका कांग्रेस से कोई संबंध नहीं है।

सूबे के मुख्यमंत्री(Captain Amarinder Singh) ने भी साफ कर दिया है कि जो लोग पार्टी के लिए एनएसयूआइ(NSUI) से काम कर रहे हैं, उनकी जगह पर 2017 में आने वाले को प्रधान कैसे बनाया जा सकता है।

जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी(JNU) में हुई छात्रों की हिंसा का असर अब अहमदाबाद में भी देखने को मिल रहा है। अहमदाबाद में ABVP-NSUI के कार्यकर्ताओं के बीच लाठी-डंडे चले।

भोपाल के माखनलाल चतुर्वेदी विश्वविद्यालय में मचा तूफान थमने का नाम नहीं ले रहा है। छात्रों के आंदोलन के बाद अब वहां छात्राएं भी धरने पर बैठ गई हैं। यह वे विद्यार्थी हैं जो विश्वविद्यालय प्रशासन के रवैए और शिक्षा के नाम पर जाति धर्म को अपशब्द कहने वाले अध्यापकों से बेहद नाराज हैं।

दिल्ली विश्वविद्दालय छात्र संघ चुनाव के परिणामों पर सभी की नजरें टिकी हुई थी और दोपहर तक परिणाम लगभग सामने आ चुके हैं। डूसू चुनाव में एबीवीपी ने तीन पदों पर जीत दर्ज कर ली है।

जेएनयू में 6 सितंबर को स्टूडेंट यूनियन के चुनाव हैं। उससे पहले यहां परंपरा के मुताबिक प्रेसीडेंशियल डिबेट का आयोजन किया गया। इस डिबेट में अलग अलग संगठनों के अध्यक्ष पद के उम्मीदवारों ने अपनी बात रखी।

विनायक दामोदर सावरकर की प्रतिमा पर शुक्रवार शाम कांग्रेस की छात्र इकाई एनएसयूआई के कार्यकर्ताओं के कालिख पोत दी थी। कहा जा रहा है कि इस कदम में वाम दल की छात्र इकाई ऑल इंडिया स्टूडेंट्स एसोसिएशन ने भी उनका साथ दिया था।

NSUI ने ऐलान किया है कि, दिल्ली यूनिवर्सिटी में अगर सेना, सुरक्षा बल, अर्ध सुरक्षा बल के शहीद जवानों के बच्चे या खेत खलियान में आत्महत्या करने वाले किसानों के बच्चें एडमिशन लेते हैं, तो संगठन एक साल की फिस भरेगा।

नई दिल्ली। दिल्ली यूनिवर्सिटी छात्र संघ चुनावों में एबीवीपी ने जीत का परचम लहराया। गुरुवार को घोषित हुए नतीजों में एबीवीपी...

नई दिल्ली। दिल्ली यूनिवर्सिटी छात्र संघ चुनावों में एक बार फिर एबीवीपी ने जीत का परचम लहराया है। एबीवीपी ने...