Pakistan

कुलभूषण जाधव मामले में मुंह की खा चुके पाकिस्तान की जेलों में कितने ही गुमनाम कुलभूषण कैद हैं! भारत सरकार ने पाकिस्तान की कैद में मौजूद भारतीयों का ब्योरा पेश किया है।

एक्सप्रेस न्यूज की रिपोर्ट के मुताबिक, मुस्लिम लीग (नवाज) के वरिष्ठ उपाध्यक्ष शाहिद खाकान अब्बासी को उस वक्त गिरफ्तार किया गया जब वह लाहौर टोल प्लाजा से गुजर रहे थे।

विदेश मंत्री ने पाकिस्तान की जेल में बंद भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव मामले में अंतरराष्ट्रीय अदालत के फैसले का स्वागत करते हुए कहा कि, 'हम एक बार फिर पाकिस्तान से जाधव को रिहा करने और भारत वापस भेजने का आग्रह करते हैं।'

अंतरराष्ट्रीय अदालत में भारत की तरफ से कुलभूषण का केस लड़ रहे हरीश साल्वे का कहना है कि अगर पाकिस्तान ने नियमों का उल्लंघन किया तो ठीक नहीं होगा। पाक द्वारा कोर्ट के फैसले का पालन नहीं करने पर और भी उपाय उपलब्ध हैं।

विदेश मामलों की समिति ने ट्वीट किया, पाकिस्तान पिछले 10 साल से हाफिज की कोई खोज नहीं कर रहा था। वह देश में आजादी से रह रहा था। उसे कई बार गिरफ्तार किया गया और छोड़ भी दिया गया।

बता दें कि ईरान के चाबहार में बिजनेस करने वाले भारतीय नौसेना के पूर्व अफसर कुलभूषण जाधव को भारत का जासूस बताकर पाकिस्तान ने गहरी साजिश चली थी। भारत ने पाकिस्तान के प्रोपेगेंडा का जवाब देते हुए साफ कहा था कि उसे अगवा किया गया था, इसीलिए जब पाकिस्तान की मिलिट्री कोर्ट ने उसके लिए सजा-ए-मौत मुकर्रर की तो भारत हेग की अंतरराष्ट्रीय अदालत में गया।

जासूसी के आरोप में पाकिस्तान की जेल में बंद कुलभूषण जाधव ऐसे इकलौते भारतीय नहीं है जिनके साथ पाकिस्तान छल कर चुका है, ऐसे कुछ और भारतीय हैं जो पाक के जाल में फंसकर अपनी जान तक गंवा चुके हैं।

पाकिस्तान की एक मजबूरी ये भी है कि वो आर्थिक रूप से खस्ता हाल हुआ है। इस हालत में वो किसी तरह की पाबंदी झेल पाने की स्थिति में नहीं है, इसलिए वह नहीं चाहते हुए भी खुद के पाले-पोषे आतंकियों पर कार्रवाई का दिखावा करने पर मजबूर है। 

फरवरी में इंटरनेशनल कोर्ट में कुलभूषण जाधव को लेकर चली चार दिनी सुनवाई तो खत्म हो गई थी। अब केवल फैसले की बारी है। लेकिन तब सुनवाई के आख़िरी दिन पाकिस्तान को भारत की दलीलों पर जवाब देने का मौका दिया गया था।

कुलभूषण जाधव को रिहा करने के लिए भारत की तरफ से अनुरोध किया गया है जिसपर पाकिस्तान के कानून विशेषज्ञों का कहना है कि आईसीजे कुलभूषण जाधव को रिहा करने के भारतीय अनुरोध को ठुकरा देगा।