PFI

अभी तक दानिश से की गई पूछताछ में सामने आया है कि प्रतिबंधित संगठन PFI न सिर्फ CAA विरोधी आंदोलन में शामिल रहा था, बल्कि हिंसा भड़काने में भी उसकी भूमिका थी।

अयोध्या विवाद में अब आतंकी गतिविधियों के आरोपी पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया ने भी एंट्री ले ली है। पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया उर्फ पीएफआई ने अयोध्या मामले में आज क्यूरेटिव याचिका दाखिल की है।

रिपोर्ट्स में कहा गया कि पीएफआई का दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष मोहम्मद परवेज अहमद शाहीन बाग प्रदर्शन का प्रमुख भागीदार है। परवेज भीम आर्मी के कई व्हाट्सएप ग्रुपों से भी जुड़ा हुआ है।

सूत्रों के मुताबिक दिल्ली पुलिस को शरजील इमाम के बैंक खाते में विदेशी फंडिंग के सबूत मिले हैं। इसके तार शाहीन बाग में हो रहे विरोध प्रदर्शन से भी जुड़े हैं।

अरविंद केजरीवाल सरकार में कैबिनेट मंत्री इमरान हुसैन की ये तस्वीर बेहद चौंकाने वाली है। इमरान हुसैन के हाथ में PFI का सबसे भड़काऊ दस्तावेज है।

इसी कड़ी में यूपी पुलिस ने पिछले 24 घंटों में राज्य के विभिन्न जिलों से पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) के दस और सदस्यों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने मुजफ्फरनगर, मेरठ, बहराइच, हापुड़ और शामली से 10 और पीएफआई के सदस्यों को गिरफ्तार किया है। प्रदेश में अब तक पीएफआई के 40 सदस्यों को गिरफ्तार किया गया है। 

पीएफआई वही संगठन है जिस पर यूपी के कानपुर सहित कई अन्य कई जिलों में सीएए और एनआरसी के खिलाफ हिंसा भड़काने का आरोप है। बता दें कि पीएफआई पर कानपुर के बाबूपुरवा और यतीमखाना में हिंसा भड़काने का आरोप है।

मिली जानकारी के मुताबिक ईडी को 73 बैंक अकाउंट का पता चला है इनमें से 27 पीएफआई के हैं। जिनमें से नौ बैंक खाते उसकी संबंधित इकाई रिहैब फाउंडेशन एनटीआरआईएफ के हैं।

मिली जानकारी के मुताबिक ईडी को 73 बैंक अकाउंट का पता चला है इनमें से 27 पीएफआई के हैं। जिनमें से नौ बैंक खाते उसकी संबंधित इकाई रिहैब फाउंडेशन एनटीआरआईएफ के हैं।

उत्तर प्रदेश, असम और केरल ने PFI को लेकर गृह मंत्रालय को अपनी रिपोर्ट सौंपी है। दरअसल, पिछले दिनों देश के कई इलाकों में नागरिकता संशोधन कानून 2019 को लेकर हिंसा देखने को मिली थी।