PFI

PopularFrontisSIMI: यूपी के जौनपुर जिले की केराकत विधानसभा से भाजपा(BJP) विधायक दिनेश चौधरी ने इस हैशटैग को आगे बढ़ाते हुए लिखा है कि, देशद्रोही संगठन पीएफआई को मैं बैन करने की मांग करता हूँ।

Manoj Joshi requested Home Minister Shah to ban PFI: बॉलीवुड के दिग्गज अभिनेता मनोज जोशी (Manoj Joshi) सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहते हैं और अक्सर समसामयिक मुद्दों पर अपनी राय रखते रहते हैं।

ED Raids:केरल स्थित पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) से जुड़े कुछ और परिसरों की खोज की जा रही है, लेकिन इसकी कोई पुष्टि नहीं हुई है। PFI का गठन 2006 में केरल में नेशनल डेमोक्रेटिक फ्रंट (NDF) के उत्तराधिकारी के रूप में हुआ था।

Bengaluru violence: महादेवपुर विधायक और भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष अरविंद लिंबावली (Arvind Limbavali) के नेतृत्व में छह सदस्यीय पैनल ने बुधवार को अपनी रिपोर्ट राज्य इकाई के प्रमुख नलिन कुमार कतेल को सौंप दी और अपनी रिपोर्ट में एसडीपीआई (SDPI) को बेंगलुरु हिंसा (Bengaluru violence) का प्रमुख साजिशकर्ता पाया। यह समूह पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) (PFI) की राजनीतिक शाखा है, जो एक कट्टरपंथी मुस्लिम संगठन है।

दिल्ली पुलिस(Delhi Police) की स्पेशल सेल टीम और क्राइम ब्रांच(Crime Branch) दिल्ली दंगों से जुड़ी जांच कर रही है, स्पेशल सेल दंगों में हुई साजिश और उस साजिश में भाग लेने वाले लोगों की जांच कर रही है जबकि क्राइम ब्रांच की टीम उन लोगों को पकड़ रही है जो दंगों में संलिप्त थे।

अभी तक दानिश से की गई पूछताछ में सामने आया है कि प्रतिबंधित संगठन PFI न सिर्फ CAA विरोधी आंदोलन में शामिल रहा था, बल्कि हिंसा भड़काने में भी उसकी भूमिका थी।

अयोध्या विवाद में अब आतंकी गतिविधियों के आरोपी पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया ने भी एंट्री ले ली है। पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया उर्फ पीएफआई ने अयोध्या मामले में आज क्यूरेटिव याचिका दाखिल की है।

रिपोर्ट्स में कहा गया कि पीएफआई का दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष मोहम्मद परवेज अहमद शाहीन बाग प्रदर्शन का प्रमुख भागीदार है। परवेज भीम आर्मी के कई व्हाट्सएप ग्रुपों से भी जुड़ा हुआ है।

सूत्रों के मुताबिक दिल्ली पुलिस को शरजील इमाम के बैंक खाते में विदेशी फंडिंग के सबूत मिले हैं। इसके तार शाहीन बाग में हो रहे विरोध प्रदर्शन से भी जुड़े हैं।

अरविंद केजरीवाल सरकार में कैबिनेट मंत्री इमरान हुसैन की ये तस्वीर बेहद चौंकाने वाली है। इमरान हुसैन के हाथ में PFI का सबसे भड़काऊ दस्तावेज है।