Piyush Goyal

North Railways: बिहार(Bihar) के भागलपुर(Bhagalpur) जाने के लिए यात्रियों को 04090/04089 आनंद विहार(Anand VIhar) टर्मिनल-भागलपुर-आनंद विहार टर्मिनल सुपर फास्ट स्पेशल  की सौगात दी गई है जो(सप्ताह में 03 दिन)- 21.10.2020 से 30.11.2020 तक आनंद विहार टर्मिनल से प्रत्येक सोमवार, बुधवार और शुक्रवार को सांय 04.55 बजे प्रस्थान कर अगले दिन पूर्वाहन 11.00 बजे भागलपुर पहुंचेगी।

Indian Railway: इनमें से कुछ ट्रेनें ऐसी भी हैं जिनके लिए आरक्षण नौ अक्टूबर से शुरू होगा और बाकी के आरक्षण 11 अक्टूबर से शुरू होंगे। कोरोना(Corona) के हालात पर चर्चा कर महाराष्ट्र सरकार(Maharashtra Government) ने 30 सितंबर को नवीनतम 'अनलॉक' दिशानिर्देशों की घोषणा की थी

Piyush Goyal assigned additional charge of Consumer Affairs ministry : केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान (RamVilas Paswan) के निधन के एक दिन बाद, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (President Ramnath Kovind) ने रेल मंत्री पीयूष गोयल (Piyush Goyal) को उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार दिया है।

Indian Railway : रेल मंत्री(Rail Minister) ने कहा कि रेल मंत्रालय(Railway Ministry) ने यात्रियों को विश्वस्तरीय सेवाएं उपलब्ध कराने के लिये सार्वजनिक निजी साझेदारी के माध्यम से चुनिंदा मार्गो पर निवेश करने और आधुनिक रैक शामिल करने के लिये आवेदन आमंत्रित किये हैं।

1 सितंबर से इंजीनियरिंग कॉलेजों में एडमिशन के लिए संयुक्त प्रवेश परीक्षा (JEE-Main) की शुरुआत हो चुकी है। ऐसे में छात्रों को एग्जाम सेंटर(Exam Center) तक पहुंचने में किसी प्रकार की कोई दिक्कत न हो इसके लिए इंडियन रेलवे ने पहल की है।

कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने राफेल विमान सौदे (Rafale) को लेकर शनिवार को एक बार फिर केंद्र सरकार पर निशाना साधा। जिस पर केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल (Piyush Goyal) ने पलटवार करते हुए करारा जवाब दिया है।

राहुल के इस बयान पर अब केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल ने खुद मोर्चा संभाला लिया है। उन्होंने ट्विटर के जरिए राहुल पर पलटवार करते हुए करारा जवाब दिया है।

भारतीय रेलवे की कपूरथला स्थित रेल कोच फैक्ट्री ने एक ऐसा कोच विकसित किया है, जो यात्रियों को कोरोना के खतरे से बचाएगा।

सरकार ने 109 रूट्स पर प्राइवेट प्लेयर्स की मदद से 151 आधुनिक ट्रेन चलाए जाने की योजना तैयार की है। सरकार के इस फैसले से रेलवे के निजीकरण को लेकर चर्चाओं का बाजार गर्म हो गया है।

देशभर में ट्रेनों के निजीकरण को लेकर छिड़ी बहस के बीच रेल मंत्रालय का एक बयान सामने आया है। जिसमें साफ तौर पर कहा गया है कि रेलवे का किसी भी प्रकार से निजीकरण नहीं किया जा रहा है। वर्तमान में चल रही रेलवे की सभी सेवायें वैसे ही चलेंगी जैसे चल रही थीं।