President Donald Trump

Coronavirus Vaccine: दुनियाभर में कोरोना वायरस (Coronavirus) के कुल मामलों का आंकड़ा (Corona Cases) बढ़कर 3.20 करोड़ के पार पहुंच गया है। ऐसे में अमेरिका (America) से राहत की खबर सामने आई है।

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक बड़ा फैसला लिया है। जिसके तहत अब अमेरिका अपने करीब 12 हजार सैनिकों को जर्मनी से वापस बुलाएगा।

अमेरिका अब चीन के साथ अलग तरीके से पेश आएगा। अमेरिका की चीन को लेकर तैयारी कुछ बदलेगी ऐसा अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने कहा है। पोम्पिओ ने कहा कि अमेरिका को चीन के साथ अब अलग तरीके से पेश आना होगा।

अमेरिका में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने उइगर मुसमानों को लेकर ने बिल पास कर दिया है। जिसके बाद चीन तिलमिला उठा है। चीन में उइगर मुस्लिमों के खिलाफ हो रही कार्रवाई के खिलाफ ये बिल पास किया है।

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को लेकर एक बड़ा दावा किया जा रहा है। कहा जा रहा है कि अमेरिकी राष्ट्रपति पद के चुनाव में दोबारा जीतने के लिए जी-20 शिखर सम्मेलन में चीन के अपने समकक्ष शी चिनफिंग से मदद मांगी थी।

अमेरिका में प्रदर्शन कर रहे लोगों पर भड़के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप। उन्होंने ट्विटर पर एक पत्र शेयर किया है। जिसमें उन्होंने शांतिपूर्ण प्रदर्शनकारियों को 'आतंकवादी' कहा है।

प्रवक्ता ने कहा कि पुलिस की हिंसा के मामलों की जांच की जरूरत है। दुनिया भर के पुलिस बलों को पर्याप्त मानवाधिकार प्रशिक्षण की आवश्यकता है,और पुलिस के लिए सामाजिक और मनोवैज्ञानिक समर्थन दिखाने की भी आवश्यकता है, ताकि वे समुदाय की सुरक्षा के संदर्भ में अपना काम ठीक से कर सकें।

कोरोना से पहले से ही जूझ रहा अमेरिका अब एक नए संकट का सामना कर रहा है। अमेरिका में अश्वेत व्यक्ति जॉर्ज फ्लॉयड की मौत का मामला गरमाता जा रहा है। देश के लगभग 20 शहरों में प्रदर्शन हो रहे हैं।

अमेरिका लगातार कोरोना वायरस के मुद्दे पर चीन पर सवाल उठा रहा है। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और विदेश मंत्री माइक पोम्पियो के बाद अब राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार रॉबर्ट ओब्रायन ने कहा है कि बीते 20 साल में चीन ने दुनिया को 5 बड़े संकट दिए हैं। 

इससे पहले डोनाल्ड ट्रंप ने पहली बार स्पष्ट तौर पर कहा कि कोरोना वायरस की उत्पत्ति चीन के वुहान शहर की एक वायरोलॉजी लैब में ही हुई थी। पूरी दुनिया में फैल चुके इस वायरस की चपेट में आकर अब तक दो लाख से ज्यादा जिंदगियां दम तोड़ चुकी हैं और वैश्विक अर्थव्यवस्था तबाह हो गई है।