rahul dravid

विजडन इंडिया ने कहा, "द्रविड़ को कुल 11,400 प्रशंसकों में से 52 प्रतिशत के वोट मिले। वह मंगलवार सुबह तक पीछे थे। द्रविड़ ने अपने खेलने वाले दिनों की तरह ही अंत तक लड़ाई लड़ी और जीती।"

दिग्गज गेंदबाज अनिल कुंबले का अन्य उदाहरण देते हुए प्रधानमंत्री ने कहा, "इसी तरह कौन भूल सकता है कि कुंबले ने घायल होते हुए भी गेंदबाजी की। यह प्रेरणा और सकारात्मक सोच की शक्ति है।"

विराट कोहली अगर इस मैच में एक और कैच पकड़ लेते हैं तो वह वनडे में भारत के लिए सबसे ज्यादा कैच पकड़ने वाले फील्डर बन जाएंगे और पूर्व कप्तान राहुल द्रविड़ को पीछे छोड़ देंगे।

राहुल द्रविड़ ने कहा कि भारतीय कोच भी विदेशी प्रशिक्षकों की तरह काबिल हैं। द्रविड़ यहां इंडिया अंडर-19 और अफगानिस्तान अंडर-19 टीमों के बीच खेले गए मैच में शिरकत करने आए थे। इस दौरान उन्होंने संवाददाताओं से बात की।

बयान के मुताबिक, "द्रविड़ भारत की पुरुष और महिला टीमों के प्रशिक्षकों के साथ भी काम करेंगे और साथ ही इंडिया-ए तथा अंडर-19, अंडर-23 टीमों के प्रशिक्षकों के साथ भी काम करेंगे।"

वेबसाइट ईएसपीएनक्रिकइंफो की रिपोर्ट के मुताबिक, द्रविड़ जल्दी ही एनसीए के हेड ऑफ क्रिकेट ऑपरेशन बना दिए जाएंगे। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) का लक्ष्य एनसीए को भारत के हाई परफॉर्मेस सेंटर में तब्दील करने का है।

महेंद्र सिंह धोनी ने रविवार को वर्ल्ड कप मैच में पाक के खिलाफ खेलते हुए अपने नाम एक और उपलब्धि दर्ज कर ली। भारत के लिए सबसे ज्यादा एकदिवसीय मुकाबले खेलने के मामले में धोनी राहुल द्रविड़ से आगे निकल गए। यह उनका भारत के लिए उनका 341वां ODI था। रविवार (16 जून) को पाकिस्तान के खिलाफ मैनचेस्टर, ओल्ड ट्रेफर्ड में उन्होंने द्रविड़ को पीछे छोड़ा। वह अब सिर्फ सचिन तेंडुलकर से पीछे हैं।

पूर्व कप्तान राहुल द्रविड़ का मानना है कि भारतीय टीम ने पिछले कुछ वर्षो में काफी अच्छा प्रदर्शन किया है। उन्होंने साथ ही कहा कि टीम के विश्व कप अभियान पर आस्ट्रेलिया से सीरीज हारने का असर नहीं पड़ेगा।

द्रविड़ मई 2018 के कर्नाटक विधानसभा चुनाव में मतदाताओं को लुभाने के लिए चुनाव आयोग के एम्बेसेडर भी थे। द्रविड़ का नाम पिछले निर्वाचन क्षेत्र (बैंगलोर सेंट्रल) से हटा दिया गया था

भारतीय टीम के पूर्व सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग का कहना है कि 2007 में शुरु हुई इंडियन क्रिकेट लीग (आईसीएल) पर भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) द्वारा लगाया गया प्रतिबंध गलत था।