Rahul Gandhi Tweet

आपको बता दें कि पिछले दिनों प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों से कहा था कि भारत के पास ये अच्छा मौका है कि वह चीन से पलायन करने वाली बहुराष्ट्रीय कंपनियों को अपनी तरफ आकर्षित करे।

राहुल ने ट्वीट कर कहा, "आज हमारे सैकड़ों भाई-बहनों को भूखे-प्यासे परिवार सहित अपने गांवों की ओर पैदल जाना पड़ रहा है। इस कठिन रास्ते पर आप में से जो भी उन्हें खाना-पानी-आसरा-सहारा दे सकें, कृपा करके दें।"

मोदी सरकार की तैयारियों को देखते हुए दुनियाभर के अन्य देशों ने भी कोरोना से छिड़ी लड़ाई में भारत की तारीफ की है। ऐसे में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कोरोना से लड़ने के उपायों पर असंतोष जताया है।

राहुल गांधी ने शुक्रवार को अपने ट्विटर हैंडल से महाशिवरात्रि को लेकर ट्वीट किया। उनके इस ट्वीट पर ट्विटर यूजर्स अपने तरीके से जवाब देते दिखे और राहुल की शिवभक्ति पर सवाल खड़े कर दिए।

इस ट्वीट के जरिए मोदी सरकार पर निशाना साधने के चलते राहुल गांधी ये भूल गए कि यह पूरा मामला उनकी पिछली मनमोहन सिंह सरकार के दौर का है।

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और केरल के वायनाड से मौजूदा सांसद राहुल गांधी ने पुलवामा हमले के बरसी पर शहीदों को श्रद्धांजलि देते हुए केंद्र सरकार पर सवाल उठाए थे।

कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने सोमवार को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा पेश किए गए बजट को पर एक ट्वीट किया जिसमें उन्होंने लिखा कि, "वित्त मंत्री जी, मेरे सवालों से मत डरिए।

राहुल गांधी की यह टिप्पणी अखिल भारतीय ट्रेड यूनियन कांग्रेस (एआईटीयूसी), भारतीय व्यापार संघ (सीटू), भारतीय राष्ट्रीय ट्रेड यूनियन कांग्रेस और लेबर प्रोग्रेसिव फेडरेशन (एलपीएफ) द्वारा केंद्र की नीतियों के विरोध में की गई राष्ट्रव्यापी हड़ताल के मद्देनजर आई।

नई दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी कैलाश मानसरोवर यात्रा को लेकर एक और जहां विपक्ष बयानबाजी कर रहा है। वहीं...