Ram temple

अयोध्या विवाद मामले में भारतीय सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने शनिवार को कहा कि 'यह फैसला पहले से ही दबाए गए मुस्लिम समुदाय पर और अधिक दबाव डालेगा।'

कार्तिक महीने में अयोध्या श्रद्धालुओं से भर चुकी है। एक अनुमान के मुताबिक 15 से 20 लाख श्रद्धालु अयोध्या में मौजूद हैं। अयोध्या इस समय हाईअलर्ट पर है।

देश में मुसलमानों के प्रमुख संगठन जमीयत उलेमा ए हिन्द ने बुधवार को कहा कि राम जन्म भूमि-बाबरी मस्जिद भूमि विवाद पर उच्चतम न्यायालय का फैसला उसे स्वीकार्य होगा। साथ ही संगठन ने मुस्लिमों से फैसले का सम्मान करने की अपील भी की।

अयोध्या राम जन्मभूमि(राम मंदिर) विवाद को लेकर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई समाप्त होने के बाद अब इस मामले में फैसले का इंतजार है। इसपर फैसले को ध्यान में रखते हुए दोनों ही पक्षों की तरफ से सांप्रदायिक सौहार्द बनाए रखने की अपील की जा रही है।

सुप्रीम कोर्ट में हिन्दू महासभा राम मंदिर मामले में मध्यस्थता के लिए तैयार नहीं है। उसने कहा है कि बिना सभी पक्षों की बात सुने मध्यस्थता का आदेश नहीं दिया जा सकता। सुप्रीम कोर्ट ने टिप्पणी करते हुए कहा कि हम हैरान हैं कि विकल्प आजमाए बिना मध्यस्थता को खारिज क्यों किया जा रहा है!!

पिछली सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि अगर 1 फीसदी भी समझौता और मध्यस्थता का मौका है तो प्रयास होना चाहिए। बता दें, जस्टिस बोबडे ने कहा था कि मेडिएशन की प्रकिया गोपनीय रहेगी और ये भूमि विवाद की सुनवाई के साथ साथ चलेगी।

उत्तर पदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 24 घंटे के भीतर अयोध्या विवाद का निपटारा करने का दावा किया है। उन्होंने कहा कि राम मंदिर मसले पर लोगों का धैर्य समाप्त हो रहा है और सर्वोच्च न्यायालय इस विवाद पर जल्द आदेश देने में असमर्थ है।

देश के ‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बारे में कहा जाता है कि एक समय पर वो चाय बेचा करते थे। ये बात कितनी सच्ची हैं और कितनी झूठी इसे लेकर कई वर्षों से चर्चा हो रही है।

नई दिल्ली। नए साल के पहले दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने न्यूज एजेंसी एएनएई को अपना साक्षात्कार दिया। एएनआई की...

नई दिल्ली। अयोध्या मामले को लेकर अगली सुनवाई की तारीख तय हो गई है। सुप्रीम कोर्ट इस मामले पर अब...