Ram temple

अयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण की शुरुआत होने जा रही है। इस बीच रामलला को मुस्लिम महिलाएं राखी भेजेंगी। राम नाम से सजी राखियों को मेरठ की शाहीन परवेज, रेशमा, नीलम और शबनम फरहीन फरजाना ने मिलकर बनाई है।

ज्योतिषियों के अनुसार यदि निर्धारित समय राम मंदिर का भूमि पूजन सकुशल संपन्न हो गया तो अयोध्या विश्व पटल पर छा जाएगी। आप भी जानिए आखिर राम मंदिर निर्माण की तारीख 5 अगस्त 2020 को ही क्यों चुना गया ??

यादव ने झारखंड विकास मोर्चा-प्रजातांत्रिक (जेवीएम-पी) के टिकट पर 2019 विधानसभा चुनाव में जीत दर्ज की थी। जेवीएम-पी के भाजपा में विलय के बाद, उन्होंने कांग्रेस में शामिल होना पसंद किया। इसके पहले 2006 में यादव भाजपा से जेवीएम-पी में शामिल हुए थे।

अयोध्या में राममंदिर का निर्माण के लिए भूमि पूजन 5 अगस्त को प्रस्तावित है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की मौजूदगी में यह कार्यक्रम आयोजित किया जाना है।

रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की यहां शनिवार को हुई बैठक में मंदिर निर्माण के लिए शिलान्यास की तिथि तय कर ली गई। ट्रस्ट ने शिलान्यास के लिए तीन और पांच अगस्त की तिथि तय की और इससे संबंधित प्रस्ताव पीएमओ को भेज दिया है।

श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की वेबसाइट शुरू हो गई है। वेबसाइट में राम मंदिर के निर्माण से जुड़े अपडेट लिए जा सकते है। आज से फेसबुक और ट्विटर अकाउंट पर भी ये जानकारियां मिलेंगी।

रामलला के लिए स्थायी मंदिर निर्माण हेतु एक बड़ा कदम उठाया गया है। इसके तहत गुरुवार को 'श्री राम जन्मभूमि क्षेत्र ट्रस्ट' के नाम से भारतीय स्टेट बैंक के अयोध्या ब्रांच में करेंट अकाउंट खोला गया।

रामजन्मभूमि न्यास के कार्यकारी अध्यक्ष और पूर्व सांसद रामविलास वेदांती ने राम मंदिर को लेकर एक बेहद दिलचस्प बात कह दी है।

राम जन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की पहली औपचारिक बैठक बुधवार को शाम 5 बजे दिल्ली में होगी। इसमें शामिल होने के लिए अयोध्या के तीनों ट्रस्टी महंत दिनेद्र दास, विमलेंद्र मोहन प्रताप मिश्र और डॉ. अनिल मिश्र दिल्ली आ गए है। शंकराचार्य बासुदेवानन्द जी सरस्वती मंगलवार को ही दिल्ली पहुंच गए थे।

गठन के बाद राम मंदिर निर्माण के लिए ट्रस्ट को दान मिलने का सिलसिला भी शुरू हो गया है। मोदी सरकार ने नवगठित ट्रस्ट को मंदिर निर्माण शुरू करने के लिए नकद में एक रुपये दान किया। यह ट्रस्ट को मिला पहला दान बताया जा रहा है।