rss

बिहार पुलिस की विशेष शाखा ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) और उससे जुड़े संगठनों और उसके अधिकारियों की जानकारी एकत्र करने का फरमान जारी किया है।

अब उनकी जगह ये जिम्मेदारी बीजेपी के सह संगठन मंत्री वी सतीश निभाएंगे। सूत्रों के हवाले से ये जानकारी सामने आई है।

इससे पहले राहुल गांधी को पटना की अदालत ने जमानत दी थी। राहुल ने मोदी सरनेम को करप्शन से जोड़ा था। ललित मोदी और नीरव मोदी के साथ प्रधानमंत्री मोदी का नाम जोड़कर सारे मोदी सरनेम के लोगों पर सवाल खड़े किए थे।

संगठन का मानना है कि देश का बंटवारा उनके लिए दुख की बात है इसलिए उसके विरोध में ऐसा कर गुस्से का इजहार किया जाएगा।

अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने के सवाल पर उन्होंने कहा कि वे जो कहना चाहते थे उन्होंने कल (बुधवार) जारी किए अपने पत्र में लिख दिया है। राहुल यहां राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के एक कार्यकर्ता द्वारा उनके खिलाफ दायर मानहानि के मामले की सुनवाई में पेश होने अए थे।

जमानती राशि अदालत में सुनवाई के दौरान राहुल के साथ मौजूद मुंबई के पूर्व सांसद एकनाथ गायकवाड़ ने दी। इससे पहले, संक्षिप्त सुनवाई के दौरान राहुल गांधी ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के एक कार्यकर्ता द्वारा उनके खिलाफ लगाए गए आरोपों के संबंध में कहा कि वह दोषी नहीं हैं।

मोहन भागवत की ट्विटर प्रोफाइल के मुताबिक उन्होंने मई 2019 में ही इसे जॉइन कर लिया था लेकिन अकाउंट वेरिफाइड अब हुआ है। वहीं, संघ के कई अहम पदाधिकारियों ने बीते कुछ ही दिनों में यहां अपनी उपस्थिति दर्ज कराई है।

आरएसएस की इस शिविर में कुल 828 स्वयंसेवक शामिल हुए थे। जिन्होंने इस शिविर में प्रशिक्षण लिया ।

शरद पवार ने कहा है कि कार्यकर्ताओं को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के स्वयंसेवकों से सीखना चाहिए कि लोगों के संपर्क में कैसे रहा जाए। आगामी विधानसभा चुनाव को देखते हुए शरद पवार ने कार्यकर्ताओं से यह भी कहा कि वे लोगों के घर-घर जाकर लोगों से मिलें।

कार्यक्रम में बोलते हुए मोहन भागवत ने कहा कि 'आरएसएस प्रमुख भागवत ने कहा कि इतिहास कहता है कि जिस देश के लोग सजग, शीलवान, सक्रिय और बलवान हों, उस देश का भाग्य निरंतर आगे बढ़ता है।'