rss

आरएसएस प्रमुख अंतर्राष्ट्रीय प्रकाशनों और समाचार चैनलों के करीब 70 पत्रकारों से बातचीत करेंगे और विभिन्न मसलों पर उनके सवालों का जवाब देंगे जिसमें किसी भी विषय के लिए मना नहीं किया जाएगा।

राजस्थान के पुष्कर में आरएसएस की 3 दिन की समन्वय बैठक के आखिरी दिन एक सवाल के जवाब में संघ का यह बयान सामने आया। संघ के संयुक्त महासचिव दत्तात्रेय होसबोले ने स्थिति स्पष्ट की।

RSS की बैठक में कहा गया कि एनआरसी एक बहुत जटिल मुद्दा है। सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के कारण असम सरकार को इस बारे में सीमित समय में कार्य करना था। असम में बांग्लादेश से बड़ी तादाद में घुसपैठिए गए हैं, वह मतदाता सूची में आ गए हैं, आधार कार्ड में आ गए।

इन संगठनों के पदाधिकारी देशभर में घूमते हैं, समाज के विभिन्न क्षेत्रों के लोगों से मिलते हैं। अनुभव-आंकलन करते हैं। ऐसे सभी व्यक्ति एकत्रित आकर अपने अनुभवों को साझा करें, इसके लिए ही समन्वय बैठक है।

सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को अयोध्या विवाद मामले में दैनिक सुनवाई की रिकॉर्डिंग की मांग वाली याचिका को प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ के समक्ष भेज दिया है। भाजपा के पूर्व नेता व राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के विचारक केएन गोविंदाचार्य ने इस संबंध में याचिका दाखिल की है।

दिग्विजय सिंह ने ट्वीट किया कि आईएसआई पाकिस्तान के लिए खुफियागीरी करते हुए भाजपा के नेताओं को एनएसए में गिरफ्तार कर सख्त सजा मिलनी चाहिए।

भारत में छुआछूत की शुरुआत कब से हुई इसको लेकर तमाम अलग-अलग थ्योरी प्रचलित हैं। इस बीच आरएसएस के एक वरिष्ठ नेता ने छुआछूत के जन्म को लेकर एक बेहद अहम बात कही है।

प्रियंका ने कहा, "आरएसएस ने घोषणा की है कि समाज के सभी मुद्दों को सौहार्दपूर्ण बातचीत के माध्यम से हल किया जाना चाहिए। मुझे लगता है कि मोदी जी और उनकी सरकार या तो आरएसएस के विचारों का सम्मान नहीं करते, या वे नहीं मानते कि जम्मू एवं कश्मीर में कोई मुद्दा है।"

संघ प्रमुख के कहने का मतलब सिर्फ इतना था कि आरक्षण का पक्ष लेने वालों को उन लोगों के हितों को ध्यान में रखते हुए बोलना चाहिए जो इसके खिलाफ हैं और इसी तरह से इसका विरोध करने वालों को इसका समर्थन करने वालों के हितों को ध्यान में रखते हुए बोलना चाहिए।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की एक पहल मेडिकल के क्षेत्र में गरीबों के इलाज के नए रास्ते खोलने जा रही है। आरएसएस से जुड़े संस्थान सेवा भारती की इस पहल में एमबीबीएस डॉक्टर बीमार लोगों का उनके घर जाकर इलाज करेंगे।