Rupee

अमेरिकी केंद्रीय बैंक फेडरल रिजर्व द्वारा इस साल ब्याज दर में कटौती का संकेत दिए जाने के बाद से डॉलर में कमजोरी आई थी। डॉलर इंडेक्स पिछले सत्र के मुकाबले 0.17 फीसदी की गिरावट के साथ 95.808 बना हुआ था। 

चुनाव के परिणाम आने के बाद शुक्रवार को रुपये में रिकवरी आई। डॉलर के मुकाबले रुपया पिछले सत्र से 26 पैसे की रिकवरी के साथ 69.75 रुपये प्रति डॉलर पर खुला।

अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दाम में फिर तेजी का रुख और दुनिया की प्रमुख मुद्राओं के मुकाबले डॉलर में बीते सत्र में रही मजबूती से रुपये पर दबाव देखा जा रहा है।

डॉलर के मुकाबले रुपये में शुक्रवार को शुरुआती कारोबार में हल्की कमजोरी रही। पिछले सत्र के मुकाबले करीब छह पैसे की कमजोरी के साथ देसी मुद्रा का भाव 69.41 रुपये प्रति डॉलर बना हुआ था जबकि इससे पहले रुपया 69.39 पर खुला था।

अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दाम में आई नरमी से देसी मुद्रा रुपये में मंगलवार को भी मजबूती बनी रही। शुरुआती कारोबार में डॉलर के मुकाबले रुपया पिछले सप्ताह के आखिरी सत्र के मुकाबले 23 पैसे की मजबूती के साथ 69.78 पर बना हुआ था। इससे पहले रुपया पिछले सत्र के मुकाबले 17 पैसे की मजबूती के साथ 79.84 पर खुला।

मुद्रा बाजार विश्लेषक बताते हैं कि ओवरसीज फंड आउटफ्लो होने से भी रुपये पर दबाव आया है और डॉलर के मुकाबले रुपया बुधवार को दैनिक कारोबार के दौरान 71.17-71.72 के बीच रह सकता है।

डॉलर के मुकाबले रुपया लगातार दूसरे दिन में शुक्रवार को फिसलकर 71.26 पर आ गया। पिछले सत्र से सात पैसे की कमजोरी के साथ डॉलर के मुकाबले रुपया 71.21 पर खुला।

डॉलर के मुकाबले रुपये में बुधवार को मजबूती का सिलसिला जारी रहा। रुपया डॉलर के मुकाबले पिछले सत्र से 25 पैसे की बढ़त के साथ 70.45 पर बना हुआ था। इससे पहले देसी मुद्रा अमेरिकी डॉलर के मुकाबले पिछले सत्र से 22 पैसे की बढ़त के साथ 70.48 पर खुली।

डॉलर के मुकाबले रुपये में सोमवार को भी मजबूती बनी रही। पिछले कारोबारी सत्र से आठ पैसे की बढ़त के साथ रुपया डॉलर के मुकाबले 71.23 पर खुला। हालांकि बाद में रुपया थोड़ा फिसलकर 71.25 पर आ गया।

देश का शेयर बाजार मंगलवार की गिरावट के बाद बुधवार को शानदार बढ़त के साथ खुला। प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स सुबह 227.17 अंकों की मजबूती के साथ 35,819.67 पर जबकि निफ्टी 50.05 अंकों की बढ़त के साथ 10,702.25 पर खुला।