russia

रूस ने अमेरिका को वेनेजुएला के आंतरिक मामलों में और दखल नहीं देने की चेतावनी दी है, जिसके बाद यह कयास लगाए जा रहे हैं कि रूस दक्षिण अमेरिकी देश पर सैन्य कार्रवाई कर सकता है।

सीएनएन की रिपोर्ट्स के अनुसार, जनवरी में खुद को वेनेजुएला का अंतरिम राष्ट्रपति घोषित करने वाले नेशनल असेंबली के विपक्ष के नेता जुआन गुआइदो की पत्नी फैबिआना रोजेल्स के साथ बुधवार को हुई बैठक के दौरान ट्रंप से पूछा गया कि क्या रूसी हस्तक्षेप से वेनेजुएला में स्थिति जटिल हो रही है?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्र के नाम संदेश में लो अर्थ आर्बिट यानि निचली धरती की कक्षा में एंटी सैटेलाइट तकनीक में सफल होने की बात कही है। उन्होंने इसे बहुत बड़ी उपलब्धि बताया है। इस तकनीक में पृथ्वी से बैठकर अंतरिक्ष में घूम रही सैटेलाइट को मार गिराते हैं। ये तकनीक अब तक केवल तीन देशों के पास थी। भारत इस मामले में चौथा देश है।

पूर्व रक्षामंत्री मनोहर पर्रिकर ने अपने कार्यकाल में रूस से हथियारों की खरीद में कुछ ऐसे ठोस कदम उठाए जिसकी वजह से देश के 49,300 करोड़ रुपये बच गए। बता दें कि रूस द्वारा एस 400 की खरीददारी को लेकर पूर्व रक्षामंत्री मनोहर पर्रिकर ने इसकी समीक्षा के आदेश दिए।

पुलवामा हमले के गुनहगार आतंकी मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने की भारत की मुहिम का असर दिखने लगा है। चौतरफा दबाव के बीच चीन ने भी अब इस मुद्दे पर नरमी के संकेत दिए हैं।

अमेरिकी राजदूत वेनेजुएला संकट पर चर्चा करने के लिए रूसी अधिकारियों से मुलाकात करेंगे। समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, विदेश विभाग ने शनिवार को एक बयान में कहा कि वेनेजुएला के लिए विशेष अमेरिकी प्रतिनिधि इलियट अब्राम्स 18-19 मार्च को रोम में रूसी उपविदेश मंत्री सर्गेई रियाबकोव और अन्य रूसी अधिकारियों से मुलाकात करेंगे।

आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर को ग्लोबल आतंकी घोषित करने के प्रयास पर एक बार फिर चीन ने अड़ंगा लगा दिया है। सुरक्षा परिषद के चार स्थायी सदस्यों अमेरिका, फ्रांस, ब्रिटेन और रूस ने इसका समर्थन किया था जबकि चीन ने विरोध किया।

रूसी संसद के उच्च सदन रशियन फेडरेशन काउंसिल ने कहा है कि अमेरिका के साथ द्विपक्षीय संबंधों को बढ़ावा देने के लिए रूस दोनों देशों के बीच संसदीय संबंध फिर से स्थापित करने के लिए तैयार है।

सैन्य सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक 10 साल की अवधि के लिए भारतीय नौसेना के लिए परमाणु क्षमता से संपन्न हमलावर पनडुब्बी पट्टे पर लेने के लिए रूस के साथ तीन अरब डॉलर का समझौता किया।

इंडियन आर्मी को आधुनिक बनाने के लिए रूस के साथ मिलकर भारत में ही ऑर्डिनेंस फैक्ट्री करीब साढ़े सात लाख AK-203 राइफल बनाएगी। रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमेठी में इस प्रॉजेक्ट की शुरुआत की। हालांकि हमारी भारतीय सेना दुनिया की पांच टॉप सेनाओं में से एक है, फिर भी किसी मौसम में चलने वाली राइफल को पाने में सालों लग गए।