Satyendar Jain

Delhi Corona: दिल्ली में कोरोना (Delhi Corona) के मामले बढ़ते जा रहे है। दिल्ली में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 6,725 नए कोरोना के मामले सामने (New Case of Corona) आए है। जो राजधानी में दर्ज किए गए अब तक के सबसे अधिक मामले हैं।

पूरे देश में कोरोनावायरस (Coronavirus) के मामले दिन-ब-दिन बढ़ते जा रहे हैं। कोरोनावायरस के मामले देश की राजधानी दिल्ली में भी चरम पर पहुंच गया था।

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन की तबीयत एक बार फिर बिगड़ गई है। उन्हें सांस लेने में काफी दिक्कत आ रही है। जिसकी वजह से उन्हें ऑक्सीजन सपोर्ट पर रखा गया है। आपको बता दें कि दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री दो दिन पहले ही कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए थे। जिसके बाद उनको अस्पताल में भर्ती करवाया गया था।

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन की कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आई हैं। मंगलवार सुबह ही उनका कोरोना टेस्ट किया गया था। सत्येंद्र जैन दिल्ली के राजीव गांधी सुपरस्पेशियलिटी अस्पताल में भर्ती हैं।

दिल्ली में बेड की कमी को देखते हुए केंद्र की मोदी सरकार ने तुरंत 500 रेलवे कोच दिल्ली को देने का निर्णय लिया है।

दिल्ली में कोरोना के मामलों की बात करें तो दिल्ली के मुख्यमंत्री कार्यालय से दी गई जानकारी के मुताबिक दिल्ली में कोरोना के मामलों की कुल संख्या 36 हजार 824 हो गई है।

दिन-ब-दिन दिल्ली में कोरोना संक्रमितों के आंकड़ों में इजाफा हो रहा है। अरविंद केजरीवाल सरकार इससे निपटने की हरसंभव कोशिश कर रही है।

गौरतलब है कि दिल्ली सरकार ने बड़ी संख्या में कोरोना टेस्ट किट का आर्डर दिया था। सरकार का मानना है कि जल्दी से टेस्ट किए जाने से कोरोना संक्रमित लोगों का तेजी से पता लगेगा, जिससे उनका उपचार भी जल्दी होगा और उनसे अन्य लोगों के संक्रमित होने की संभावना कम हो जाएगी।

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि लॉकडाउन में हम केंद्र सरकार के साथ हैं। अगर केंद्र सरकार लॉक डाउन बढ़ाती है, तो हम उनका साथ देंगे।

गौरतलब है कि दिल्ली के निजामुद्दीन के तबलीगी जमात के मरकज में करीब 14 सौ लोग ठहरे हुए थे, जिसमें कई विदेशी भी शामिल थे। जमात के विदेशी मेहमानों में ज्यादातर मलेशिया और इंडोनेशिया के नागरिक बताए जा रहे हैं। दिल्ली आने से पहले ये समूह 27 फरवरी से 1 मार्च के बीच मलेशिया गया था, जहां ये लोग एक धार्मिक जलसे में शामिल हुए थे। जमात के कई लोगों के कोरोना से पीड़ित होने के मामले सामने आ चुके हैं।