Shivsena

इसी बीच शिवसेना ने एक बार फिर से भाजपा पर निशाना साधा है और कहा है कि, शिवसेना घुटने नहीं टेकने वाली है। भाजपा को अगर सरकार बनान है तो फिर पैसे, पुलिस और ईडी की धाक से बना ले सरकार।

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन(AIMIM) प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि, उद्धाव ठाकरे दो घोड़ों की सवारी करना चाहते हैं, वो जनता को मुर्ख ना बनाए।

शिवसेना के नेता संजय राउत ने कहा, 'सेना ने गठबंधन में रहते हुए विधानसभा चुनाव लड़ा था और हम आखिरी वक्त तक गठबंधन धर्म का पालन करेंगे।' उन्होंने कांग्रेस नेता हुसैन दलवई के कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र लिखने के कदम का भी स्वागत किया है।

महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव परिणाम आए नौ दिन बीत चुके हैं लेकिन अभी तक यह साफ नहीं है कि सरकार किसकी बनेगी और कैसे बनेगी। इसी बीच कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और सांसद हुसैन दलवई ने पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को महाराष्ट्र में गठबंधन सरकार बनाने पर चिट्ठी लिखी है।

संजय राउत ने कहा, "राष्ट्रपति देश का संवैधानिक प्रमुख है.. वह किसी की जेब में नहीं है। इस तरह की धमकी देना जनता के जनादेश का अपमान है।" उन्होंने कहा कि ना तो कोई भी 'मराठी मानूस' मुनगंटीवार के बयान से सहमत है और न ही शिवसेना को इस तरह की धमकियों से रोका जा सकता है।

शिवसेना ने ये भी कहा कि राष्ट्रपति शासन लगाने की धमकी देनेवाले पहले सरकार बनाने का दावा तो पेश करें! फिर आगे देखेंगे। राष्ट्रपति संविधान की सर्वोच्च संस्था हैं, वे व्यक्ति नहीं बल्कि देश हैं।

शिवसेना ने गुरुवार को अपने विधायक दल की बैठक बुलाई है, बता दें कि इस बार शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य ठाकरे भी विधायक चुनकर आए हैं। ऐसे में उम्मीद जताई जा रही है कि शिवसेना का विधायक दल का नेता उन्हें चुना जा सकता है

इस प्लान को जानने के लिए बीजेपी सरकार के 2014 के बहुमत परीक्षण को देखना जरूरी होगा। इस बहुमत परीक्षण में शिवसेना आखिर तक बीजेपी के खिलाफ खड़ी थी लेकिन अंतिम समय में अपरोक्ष रूप से उसे बीजेपी के साथ आना पड़ा था।

महाराष्ट्र के नतीजे आने के बाद से ही बीजेपी पर लगातार हमले कर रही शिवसेना के तेवर अब नरम पड़ गए हैं। बीजेपी ने सरकार को लेकर सख्त रवैया अख्तियार करते हुए अपने दम पर सरकार बनाने की चेतावनी दी।

दुष्यंत ने आगे कहा,  'एक पिता के लिए खुशी की बात होती है और त्योहार का दिन भी था और खुशी भी थी। मैं संजय जी को कहूंगा इस तरह के बयान से उनका कोई कद नहीं बढ़ता है। उनकी पार्टी भारतीय जनता पार्टी के साथ बहुत लंबे समय से रही है।