Shivsena

ऐसे में हमें लगता है कि सच्चाई की परिभाषा बदल गई है। संजय राउत ने कहा कि मुख्यमंत्री ने इससे पहले 50-50 फॉर्मूले की बात की थी। अब अगर सीएम कहते हैं कि 50-50 फॉर्मूला के बारे में कोई बातचीत नहीं हुई है, तो ऐसे में बातचीत का कोई आधार नहीं है।

महाराष्ट्र में सरकार बनाने की कवायद भाजपा और शिवसेना दोनों में काफी तेज है। लेकिन जहां एक तरफ शिवसेना 50-50 फॉर्मूले पर अटकी पड़ी है तो वहीं भाजपा ने भी साफ कर दिया है कि, चुनाव से पहले ऐसा कोई करार नहीं हुआ था।

काकड़े ने दावा किया है कि, शिवसेना के 56 में से 45 विधायक भाजपा को सपोर्ट करने का मन बना चुके हैं और वो अलग पार्टी बनाकर भाजपा सरकार को समर्थन दे सकते हैं। उन्होंने ये भी कहा कि, विधायक भाजपा को फोन कर अपना समर्थन देने की बात कर रहे हैं।

महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले के नेवासा विधानसभा क्षेत्र से निर्दलीय विधायक शंकर राव गड़ाख ने सोमवार को पार्टी प्रमुख उद्धव ठाकरे से मुलाकात कर समर्थन देने का ऐलान किया।

महाराष्ट्र के चुनाव नतीजे आने के पांच दिन बाद भी शिवसेना के साथ सरकार बनाने को लेकर जारी खींचतान के बीच भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता और राज्यसभा सांसद जीवीएल नरसिम्हा राव ने अहम बयान दिया है।

शिवसेना ने अपने विधायक दल के बैठक में ये साफ कर दिया है कि वो 50-50 फॉर्मूले से कम में नहीं मानने वाली है।  इसके साथ ही इस बार शिवसेना ने सीएम पद को लेकर लिखित आश्वासन मांगा है।

महाराष्ट्र की राजनीति दिलचस्प मोड़ लेती दिखाई पड़ रही है। बीजेपी और शिवसेना ने पूर्ण बहुमत प्राप्त कर लिया है मगर अब दोनों पार्टियों के बीच के मतभेद खुलकर सामने आ रहे हैं। शिवसेना ने सामना के जरिए बीजेपी पर हमला किया है।

मुंबई के भाजपा कार्यालय में पार्टी कार्यकर्ताओं ने मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस का स्वागत किया। देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि हम नरेंद्र मोदी, अमित शाह, जेपी नड्डा, उद्धव ठाकरे और सभी नेताओं का धन्यवाद करते हैं।

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा है कि, मुख्यमंत्री पद के लिए 50-50 का फॉर्मूला तय किया गया है। इससे कम में पार्टी झुकने वाली नहीं है। उन्होंने कहा कि, दिल्ली में भाजपा आलाकमान से इस बारे में बात करेंगे।

हरियाणा और महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के नतीजे आने शुरु हो चुके हैं, जिसमें ये तय है कि महाराष्ट्र में भाजपा अपनी सहयोगी शिवसेना के साथ सरकार बना ही लेगी लेकिन वही हरियाणा की बात करें तो भाजपा बहुमत के जादुई आंकड़े के बेहद करीब दिखाई दे रही है।