sonia gandhi

सोनिया गांधी ने इस पत्र में लिखा है- ' यह एक सराहनीय कदम है। इस पैसे का उपयोग कोविड -19 के खिलाफ लड़ाई के लिए बहुत आवश्यक है। यह समय की आवश्यकता है।

जेपी नड्डा ने कहा देश की आर्थिक स्थिति को मजबूत करने के लिए सरकार के द्वारा कई कदम उठाए गए हैं। हर कोई सरकार के स्टैंड का स्वागत कर रहा है। लेकिन कांग्रेस पार्टी विरोध कर रही है।

अमित शाह की यह टिप्पणी ऐसे समय में आई जब कुछ ही घंटे पहले कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने सरकार पर देशव्ययापी लॉकडाउन को बिना योजना बनाए लागू करने का आरोप लगाया और कहा कि इससे लाखों लोगों को परेशानी हुई है।

कोरोनावायरस और लॉक डाउन के बीच पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने मोदी सरकार पर तंज कसा है। सिब्बल ने अपने ट्विटर अकाउंट पर भारत की दो तस्वीरों को पेश करते हुए मौजूदा हालात को बयां किया है।

पार्टी ने कहा कि राज्य समितियां वायरस के प्रसार पर जमीनी स्थिति के आधार पर केंद्रीय नियंत्रण कक्ष को दैनिक रूप से अपडेट करेंगी, साथ ही राज्य सरकारों की चिकित्सा तैयारियों के साथ-साथ पार्टी और राज्य एजेंसियों द्वारा राहत कार्य के बारे में भी अपडेट करेंगी।

उन्होंने सुझाव देते हुए कहा कि केंद्र को छह महीनों के लिए सभी ईएमआई को टालने पर विचार करना चाहिए, इस अवधि के लिए बैंकों द्वारा लिया जाने वाला ब्याज भी माफ करना चाहिए।

राज्यपाल की तरफ से एक पत्र जारी किया गया है। जिसमें कहा गया है कि दी गयी तारीख 17 मार्च को अगर कमलनाथ सरकार बहुमत साबित नहीं करेगी तो उसे अल्पतम में माना जाएगा। राज्यपाल ने इस बात पर नाराजगी जताई है कि उनके कहने के बावजूद आज फ्लोर टेस्ट क्यों नहीं कराया गया

प्रदेश में जो भी राजनीतिक घटनाक्रम हुआ है उसके बाद अब कांग्रेस के अंदर काफी उथल-पुथल देखने को मिल रही है। कभी राजस्थान से बगावत की खबरें उठ रहीं है तो कभी गुजरात से।

सिद्धू ने कहा कि यह चैनल बाबा नानक द्वारा दिखाए गए वैश्विक भाईचारे, सहिष्णुता, प्रेम और शांति से प्रेरित है। बता दें कि पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिन्दर सिंह के साथ पोर्टफोलियों के आवंटन पर मतभेदों के चलते सिद्धू ने मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे दिया था।

कपिल सिब्बल से अमित शाह ने सीएए को लेकर सवाल पूछ लिया और सिब्बल ने उसका जो जवाब दिया वह अब कांग्रेस के गले का फांस बनने वाली है।