SpiceJet

बयान में कहा गया है, "एयरलाइन इस महीने रास अल-खैमाह, जेद्दा, दम्माम, रियाद और मस्कट से बेंगलुरू, हैदराबाद, लखनऊ, कोझीकोड, कोच्चि, तिरुवनंतपुरम और मुंबई के लिए 19 और उड़ानें संचालित करेगी।"

स्पाइसजेट ने बुधवार को अपने पायलटों को बताया कि उन्हें अप्रैल और मई के लिए वेतन का भुगतान नहीं किया जाएगा। एयरलाइन ने कहा कि जो लोग कार्गो उड़ानों का संचालन कर रहे हैं, उन्हें "ब्लॉक आवर फ्लो" के लिए भुगतान किया जाएगा।

स्पाइसजेट ने कोच में सोशल डिस्टेंसिंग से बैठने की व्यवस्था की है। यात्री केवल एक्स से चिह्नित सीटों पर ही बैठेंगे। इसके अलावा यात्रियों के खड़े होने के लिए भी स्टैंडिंग स्पेस चिह्नित किये गए है।

प्रवक्ता ने कहा कि पायलट को उचित चिकित्सा सुविधा प्रदान करने के लिए सभी उपाय किए जा रहे हैं। "हमारे यात्रियों और कर्मचारियों की सुरक्षा हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता है। हम भारत सरकार द्वारा जारी किए गए दिशानिर्देशों का पालन कर रहे हैं।"

कुणाल कामरा ने एक वीडियो पोस्ट किया है, जिसमें वो फ्लाइट में अर्नब गोस्वामी से सवाल पूछ रहे हैं और उनका वीडियो बना रहे हैं। कुणाल के वीडियो बनाने पर इंडिगो ने उनपर 6 महीने का बैन लगा दिया है।

स्पाइसजेट ने कहा कि उसके तीन बी 737 मालवाहक विमान जो इस महीने की शुरुआत में 'संभावित गड़बड़ी' के कारण सेवा से हटा दिए गए थे, वे सोमवार से वापस सेवा में लौट आए हैं।

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर की शिकायत और बुरे बर्ताव को लेकर विरोध पर प्रतिक्रिया देते हुए बजट एयरलाइन स्पाइसजेट ने रविवार को भोपाल की सांसद को हुई असुविधा को लेकर खेद जताया। साथ ही कहा कि एयरलाइन के लिए यात्रियों की सुरक्षा सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है।

मीडिया से बात करते हुए है सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने कहा कि,  मैंने विमान में धरना नहीं दिया। मैंने अधिकारियों को बताया कि वास्तव में स्पाइस जेट विमान सेवा का स्टाफ यात्रियों के साथ सही व्यवहार नहीं करता है।

स्पाइसजेट ने कहा है कि उसने अपने तीन बी737 मालवाहक विमानों का संचालन बंद कर दिया है। किफायती विमानन सेवा ने शुक्रवार को कहा कि यह कदम इजरायली एयरोस्पेस इंडस्ट्रीज (आईएआई) की सलाह पर उठाया गया है। आईएआई ने इन विमानों को मालवाहकों में बदला है।

एयरलाइन ने अप्रैल-जून तिमाही में कुल 3,145.3 करोड़ रुपये का राजस्व दर्ज किया है, जो कि वित्त वर्ष 2018-19 की समान तिमाही में 2,253.3 करोड़ रुपये थी। इस हिसाब से राजस्व में 39.5 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई।