Sunni Waqf Board

ट्रस्ट(Sunni Waqf Board) के सचिव अतहर हुसैन ने कहा, हम धनीपुर(Dhanipur) परिसर को सांप्रदायिक सद्भाव का अनूठा उदाहरण और चिकित्सा, शिक्षण और प्रार्थना का केंद्र बनाने के लिए सभी समुदायों से दान स्वीकार करेंगे।

आधिकारिक आवंटन के बाद कानूनन 5 एकड़ जमीन अब सुन्नी वक्फ बोर्ड को दे दी गई है। उस जमीन पर सुन्नी वक्फ बोर्ड मस्जिद के साथ साथ अन्य कार्य के लिए भी अधिकृत हो गया है. डीएम अनुज झा ने बताया कि सुन्नी वक्फ बोर्ड की तरफ से स्वीकार पत्र भी मिल चुका है।

सुन्नी वक्फ बोर्ड आम लोगों की राय के साथ चलना चाहता है। शीर्ष अदालत के फैसले के बाद सुन्नी वक्फ बोर्ड को कई लोगों ने मस्जिद के साथ ही अस्पताल व किसी बड़े शैक्षणिक संस्थान का निर्माण कराने की राय भी दी थी।

अयोध्या मामले में सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड ने एक अहम फैसला किया है। सूत्रों के मुताबिक सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड जमीन लेने के लिए तैयार हो गया है। उसे सुप्रीम कोर्ट के फैसले से 5 एकड़ जमीन मिली है

सुन्नी वक्फ बोर्ड ने वकील राजीव धवन को अयोध्या केस से हटाया

राजीव धवन ने फेसबुक पोस्ट पर लिखा कि मुझे ये बताया गया कि मुझे केस से हटा दिया गया है, क्योंकि मेरी तबियत ठीक नहीं है। ये बिल्कुल बकवास बात है। बता दें, राजीव धवन ने सुप्रीम कोर्ट में सुन्नी वक्फ बोर्ड और अन्य मुस्लिम पार्टियों का पक्ष रखा था।

सुन्नी वक्फ बोर्ड ने कहा है कि वह ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (एआईएमपीएलबी) के अयोध्या जमीन विवाद मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ पुनर्विचार याचिका दाखिल करने के फैसले से खुद को अलग कर रहा है। बोर्ड के चेयरमैन जुफर फारूकी ने एक न्यूज चैनल से बातचीत में कहा, "हम कोई पुनर्विचार याचिका दायर नहीं करेंगे।"