Tees Hazari Court

फैसला सुनाते वक्त ये भी देखा गया कि दोषी कुलदीप सेंगर जज के सामने हाथ जोड़कर खड़े रहे। इसके साथ ही कोर्ट ने सीबीआई को पीड़िता और उसके परिवार को आवश्यक सुरक्षा प्रदान करने का आदेश दिया है।

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट किया, "72 साल में पहली बार दिल्ली पुलिस ने दिल्ली पुलिस का मुख्यालय घेरा, पुलिस कर रही विरोध प्रदर्शन। कानून व्यवस्था का निकला जनाजा। गृह मंत्री, श्री अमित शाह कहां गुम हैं?"

बार काउंसिल ऑफ इंडिया के चेयरमैन मनन मिश्रा ने इस चिट्ठी में लिखा है कि वकीलों ने अपने खिलाफ जांच पूरी होने तक किसी भी तरह के जोर जबरदस्ती के कदम उठाए जाने से रोकने की मांग की थी। इसे मान लिया गया है।

इस प्रदर्शन और पुलिसकर्मियों की मांगों को देखते हुए दिल्ली पुलिस कमीश्नर अमूल्य पटनायक ने उन्हें संबोधित करते हुए अपील की कि हमारे लिए ये परीक्षा की घड़ी है और प्रतीक्षा की घड़ी है।

दिल्ली के cमें पुलिस और वकीलों के बीच हुई हिंसक झड़प के बाद अब वकीलों के उग्र प्रदर्शन के खिलाफ IPS भी एकजुट दिखाई दे रहे हैं और इसका उदाहरण सोशल मीडिया पर देखने को मिल रहा है।

दिल्ली के तीस हजारी कोर्ट में शनिवार को वकीलों और पुलिस के बीच हुई हिंसा के बाद दिल्ली पुलिस ने उत्तरी दिल्ली के विशेष पुलिस आयुक्त (कानून व्यवस्था) संजय सिंह को हटा दिया है।

उत्तरी दिल्ली जिले में स्थित तीस हजारी अदालत में शनिवार को पुलिस और वकीलों के बीच हुई खूनी लड़ाई में 20 से ज्यादा पुलिसकर्मी और एक एडिशनल डीसीपी, दो एसएचओ के अलावा आठ वकील जख्मी हो गए।

इसके अलावा वकीलों ने पुलिस के कुछ अधिकारियों की पिटाई भी कर दी है। रिपोर्ट के मुताबिक, वकीलों ने कई गाड़ियों में तोड़फोड़ की है। वहीं कोर्ट परिसर में खड़ी गाड़ियों को जला दी गई है।