Terrorism

UNGA : पीएम मोदी(PM Modi) के संबोधन में आतंक(Terrorism) के मुद्दे छाए रहने की उम्मीद है। पीएम का फोकस कोरोना वायरस(Corona Virus) की महामारी पर भी रह सकता है। महासभा के मंच से संयुक्त राष्ट्र में सुधार की बात भी पीएम मोदी उठा सकते हैं।

आंतकवाद (Terrorism) से त्रस्त जम्मू-कश्मीर (Jammu & Kashmir) को लेकर भारत सरकार (Indian Govt.) ने अपनी रणनीति में बदलाव किया तो आंतक की कमर घाटी में टूटती नजर आई।

दिल्ली(Delhi) और वाशिंगटन में आतंकवाद(Terrorism) विरोधी अधिकारियों के अनुसार इन आतंकियों में से चार ने तुर्की और सूडान जैसे किसी अन्य देश की नागरिकता हासिल की थी।

संयुक्त राष्ट्र में पकिस्तान की कश्मीर मुद्दे को भुनाने कोशिश एक बार फिर फेल हो गई है। पाकिस्तान खुद ही आतंकवाद और टेरर फंडिंग के मुद्दे पर घिरता नजर आ रहा है।

जम्मू-कश्मीर की नयी अधिवासन नीति वस्तुतः जम्मू-कश्मीर के नव-निर्माण का दस्तावेज है। यह नीति जम्मू-कश्मीर की महत्वाकांक्षी निर्माण परियोजना में अपना श्रम, कौशल, प्रतिभा और पूँजी लगाने वाले भारतीयों का स्वागत-द्वार है।

भारत पर हमला या बदनाम करने की किसी भी साजिश से पाक पीछे नहीं हटना चाहता है। यह अलग बात है कि उसकी कई कोशिशों के बाद भी पाकिस्तान को हर बार मुंह की खानी पड़ती है। ऐसा ही कुछ इस बार भी हुआ। दरअसल,आतंकवाद को समर्थन देने के मुद्दे पर पाकिस्‍तान भारत को भी फंसाने की योजना में था। जिसको अमेरिका ने विफल कर दिया है।

दिल्ली में एक बड़ी साजिश को अंजाम देने की तैयारी थी। इसी तैयारी के तहत सीएए के विरोधियों को भड़का कर उन्हें आतंकवाद की राह पर ले जाने का कुचक्र रचा गया था।

इंग्लैंड में स्थित लंदन ब्रिज पर शुक्रवार को एक आतंकवादी हमले के तहत दो लोगों की मौत हो गई और तीन लोग घायल हो गए। इन लोगों पर चाकू से हमला किया गया था। पुलिस ने यह जानकारी दी।

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरस ने संयुक्त राष्ट्र और शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) के बीच आतंकवाद-रोधी साझेदारी की सराहना की है। शांति, सुरक्षा और स्थिरता पर यूएन-एससीओ सहयोग पर आयोजित एक कार्यक्रम में मंगलवार को गुटेरस ने एससीओ को क्षेत्रीय कूटनीति, बहुराष्ट्रवाद और यूरेशिया में सबसे ज्यादा जरूरी शांति और सुरक्षा मुद्दों के संबंध में सहयोग बढ़ाने में प्रमुख भूमिका निभाने वाला बताते हुए उसकी प्रशंसा की।

अगले चार दिनों तक 7 देशों के साथ-साथ हिंदुस्तान के अलग-अलग राज्यों की डांस परफॉर्मेंस मध्य प्रदेश के ग्वालियर में देखने को मिलेगी। बता दें, डांस फेस्टिवल के तहत गुरुवार को ग्वालियर के कटोराताल से डांस कार्निवाल निकाला गया, जिसमें इजराइल, स्पेन, इटली, किर्गिस्तान, रशिया और श्रीलंका के कलाकारों के साथ हिंदुस्तान की 300 से ज्यादा टीमें शामिल हुईं।