Udit raj

उदित राज के इस ट्वीट पर लोगों ने उन्हें जमकर खरी-खोटी सुना दी। एक यूजर ने लिखा कि, 'तुम थोड़ा और पहले भाजपा से निकल गये होते तो सायद भाजपा को दिल्ली में बहुमत मिल गया होता! और तब शायद दिल्ली के हालात इतने बुरे नहीं होते!'

उदित राज ने लिखा कि, "जो लोग सत्ता पाने के लिये गुजरात में नरसंहार करवा सकते हैं, वो सत्ता बनाये रखने के लिये 40 जवानों की जान का सौदा भी कर सकते हैं। इनके लिये देशभक्ति और राष्ट्रवाद जनता को भरमाने का एक टूल भर है।"

दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए अभी वोटिंग हो रही है और नतीजे 11 फरवरी को आने हैं, लेकिन इससे पहले ही कांग्रेसी नेता उदित राज ने ईवीएम का रोना शुरू कर दिया है।

दरअसल, उदित राज ने ट्वीट किया, 'हमारे इसरो के वैज्ञानिकों ने अगर नारियल फोड़ने और पूजा पाठ के विश्वास के बजाय वैज्ञानिक शक्ति और आधार पर विश्वास करते तो अब तक मिली आंशिक असफलता का मुंह ना देखना पड़ता।'

एग्जिट पोल्स में हार का सवाल उठते ही विपक्ष ईवीएम को लेकर बवाल मचा रहा है। मामले पर और ज्यादा आक्रामक होते हुए कांग्रेस नेता उदित राज ने सुप्रीम कोर्ट को भी घसीट लिया है। उदित राज ने सर्वोच्च अदालत पर विवादित टिप्पणी करते हुए ट्वीट किया, 'सुप्रीम कोर्ट क्यों नहीं चाहता की वीवीपैट की सारी पर्चियों को गिना जाए। क्या वह भी धांधली में शामिल है।

बीजेपी से हाल ही में कांग्रेस में आए उदित राज ने सोमवार को भाजपा पर जमकर हमला बोला। एग्जिट पोल के बाद ट्वीट कर कहा कि केरल में बीजेपी आज तक एक भी सीट नहीं जीत पाई क्योंकि वहां शिक्षित लोग रहते हैं। उदित राज ने यह भी कहा कि टीवी सर्वे में भाजपा को जीत मिल रही है ताकि विपक्ष बिखर जाए और ईवीएम का खेल किया जाए।

दिल्ली के उत्तर पश्चिम लोकसभा सीट से टिकट न मिलने से नाराज भारतीय जनता पार्टी के सांसद उदित राज ने बुधवार को कांग्रेस का हाथ थाम लिया है। उन्‍होंने बुधवार को कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी की मौजूदगी में कांग्रेस की सदस्‍यता ग्रहण की। कांंग्रेस ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर इसकी पुष्टि की है।

बेहद गरीब दलित परिवार में जन्में सिंगर हंसराज हंस सालों के संघर्ष के बाद गायकी की दुनिया में अपना नाम कमाया है। पद्मश्री राजगायक हंसराज हंस ने वर्ष 2016 में भाजपा ज्वाइन की थी। 

उदित राज इससे पहले भी भाजपा और मोदी सरकार की नीतियों के खिलाफ बोलते आएं हैं। खासकर तब जब मोदी सरकार आरक्षण को लेकर कोई फैसला लेती। उदित राज अपने बयानों की वजह से पार्टी के लिए कई बार सिरदर्द भी बनते रहे हैं।

बीजेपी सांसद उदित राज ने अब तक टिकट की सूची में अपने नाम का ऐलान न होने को लेकर नाराजगी जाहिर की है। बता दें कि उत्तर-पश्चिमी दिल्ली की सीट से उदित राज सांसद हैं।