Union Home Minister Amit Shah

2019 में डेढ़ महीने तक चले आम चुनाव में थकान भरी कवायद के बाद परिणाम आने से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी केदारनाथ पहुंचे थे और उन्होंने भगवान शिव का रूद्राभिषेक कर उनकी आराधना की थी।

2019 में आम चुनाव से ठीक पहले देश के लगभग हर मंच पर विपक्षी एकता साफ नजर आ रही थी। इन विपक्षी दलों का सिर्फ और सिर्फ एक मकसद था किसी तरह नरेंद्र मोदी सरकार को सत्ता में दोबारा लौटने से रोकना।

नरेंद्र मोदी सरकार 1.0 में सियासी ताज सजने तक पार्टी की कमान भले राजनाथ सिंह के हाथ हो लेकिन सरकार गठन के बाद से पार्टी की कमान अमित शाह के मजबूत हाथों में आ गई।

सरकार के गठन के बाद जिस तरह से ताबड़तोड़ फैसले लिए गए उसने एक साल के मोदी सरकार 2.0 के कार्यकाल में नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता का ग्राफ और ऊंचा कर दिया।

गौरतलब हैं कि केंद्र सरकार और पश्चिम बंगाल सरकार के बीच कई मुद्दों पर तनातनी देखने को मिलती रहती है। अब प्रवासी मजदूरों को लेकर दोनों आमने-सामने आ गए हैं।

पश्चिम बंगाल के विधानसभा चुनाव में अभी समय है लेकिन भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने इसकी तैयारियां शुरू कर दी हैं। इस सिलसिले में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा एक दिन के दौरे पर आज कोलकाता पहुंच रहे हैं।

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप सोमवार को भारत आने वाले हैं। अपने दो दिन के दौरे पर ट्रंप गुजरात के अहमदाबाद भी जाएंगे। वहीं, राष्ट्रपति ट्रंप के आने से पहले गृह मंत्री अमित शाह रविवार को अहमदाबाद पहुंच गए हैं।

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) को लेकर विपक्ष पर हमला बोला है।