Uttrakhand

Uttrakhand: उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत (CM Trivendra Singh Rawat) ने सीएम आवास में दीपावली मिलन के अवसर आईएएस, आईपीएस एवं आईएफएस अधिकारियों ने धनतेरस एवं दीपावली की शुभकामनाएं दी। इस अवसर पर मुख्य सचिव ओम प्रकाश, अपर मुख्य सचिव राधा रतूड़ी, मनीषा पंवार, प्रमुख सचिव आनन्द वर्धन, पुलिस महानिदेशक अनिल कुमार रतूड़ी, डीजी लॉ एण्ड ऑर्डर अशोक कुमार, प्रमुख वन संरक्षक रंजना काला एवं वरिष्ठ अधिकारियों ने दीपावली मिलन कार्यक्रम में हिस्सा लिया।

उत्तराखंड में भारी बारिश से नदियां उफान पर हैं। सबसे ज्यादा नुकसान मुनस्यारी में एक पुल पानी में समा गया। मुनस्यारी में चीन सीमा तक जाने वाली मेलम सड़क को भी काफी नुकसान पहुंचा है।

29 मई को सतपाल महाराज, उनके पुत्र और पुत्रबधु समेत 22 अन्य लोग भी कोरोना संक्रमित पाए गए थे। इनमें से सतपाल महाराज समेत उनके परिवार के छह लोगों को 30 मई को एम्स में भर्ती किया गया था।

मुख्यमंत्री ने गुजरात के उन सामाजिक कार्यकर्ताओं का भी आभार जताया, जिन्होंने लॉकडाउन के दौरान उत्तराखंड के लोगों के खाने और रहने की उचित व्यवस्था की।

दरअसल, तीर्थनगरी में सुबह 7 बजे से दोपहर एक बजे तक रिलेक्सेशन पीरियड रहता है। यानी कि अगर किसी शख्स को खाने-पीने या अन्य किसी आवश्यक वस्तु की जरूरत है तो वह जाकर खरीद ले। विदेशी नागरिक, इसी दौरान सामान खरीदने का बहाना बनाकर गंगा नदी के किनारे घूमने निकल गए। कोई गंगा में डुबकी लगा रहा था तो कोई घूम रहा था।

उत्तराखंड को 31 मार्च तक के लिए लॉकडाउन कर दिया गया है। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने इसकी घोषणा की है। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने आगामी 31 मार्च तक प्रदेश में लॉकडाउन घोषित कर दिया है।

रविवार को उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग में चंद्रिका धर के पास सुबह ही भूस्खलन होने से कारण तीन लोग घायल हो गए हैं और दो लोग लापता बताए जा रहे हैं।

सोमवार सुबह रजनीकांत यहां टहलने के लिए निकले और फिर बाद में अपनी बेटी के साथ हेलीकॉप्टर से केदारनाथ और बद्रीनाथ के लिए रवाना हो गए। दोनों मंदिरों में उन्होंने पूजा-अर्चना की, जहां मंदिर प्रबंधन अधिकारियों ने उनका स्वागत किया।

बीते एक वर्ष में इस सड़क पर 30 से ज़्यादा दुर्घटना के मामले सामने आए हैं जिसमे 35 से ज़्यादा लोग अपनी जान गँवा चुके हैं। ऐसे में स्थानीय लोग इस सड़क से गुजरने से डरने लगे हैं।

पुलिस उपायुक्त विजय कुमार ने आईएएनएस से शुक्रवार को कहा, "रोहित शेखर तिवारी (40) की ऑटोप्सी रिपोर्ट में कहा गया है कि यह अप्राकृतिक मौत गला घोटे जाने की वजह से हुई है। इसमें अन्य विरोधाभास भी पाए गए हैं।"