vhp

काफी सालों से चली आ रही अयोध्या मामले को लेकर बड़ी खबर यह है कि, सुप्रीम कोर्ट 9 नवंबर को अपना फैसला सुना सकता है। सभी को इतंजार था कि, कब अयोध्या मामले को लेकर फैसला आएगा।

अयोध्या में भूमि विवाद मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले से पहले राममंदिर के लिए पत्थर तराशने के रूके काम पर विश्व हिंदू परिषद (विहिप) ने सफाई दी है। विहिप का कहना है कि पत्थर तराशी का काम अनवरत चलने वाला है।

अयोध्या राम जन्मभूमि(राम मंदिर) विवाद को लेकर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई समाप्त होने के बाद अब इस मामले में फैसले का इंतजार है। इसपर फैसले को ध्यान में रखते हुए दोनों ही पक्षों की तरफ से सांप्रदायिक सौहार्द बनाए रखने की अपील की जा रही है।

अयोध्या में राममंदिर पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले को लेकर विश्व हिन्दू परिषद (विहिप) भी सतर्कता बरत रहा है। निर्णय आने से पहले विहिप ने इस पर अनर्गल बयानबाजी करने पर पाबंदी लगा दी हैं, जिससे माहौल न खराब हो सके। सूत्रों की मानें तो राममंदिर फैसले को लेकर आरएसएस बहुज ज्यादा संजीदा है।

बजरंग दल ने यह भी मांग की थी कि ओमजी के खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) के अंतर्गत मामला दर्ज किया जाए। ओमजी ने रविवार को कहा था कि चिन्मयानंद के खिलाफ मामला राम मंदिर निर्माण में बाधा उत्पन्न करने के लिए दर्ज कराया गया है।

बिहार पुलिस की विशेष शाखा ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) और उससे जुड़े संगठनों और उसके अधिकारियों की जानकारी एकत्र करने का फरमान जारी किया है।

वीएचपी की महिला विंग ने हथियार लहराकर कुछ यूं किया अभ्यास

विहिप के कार्यकारी अध्यक्ष आलोक कुमार ने कहा कि उनका संगठन राम मंदिर निर्माण पर नरेंद्र मोदी सरकार को उनके वादे के बारे में 'याद दिलाने' का फैसला किया है।

सोमवार को पुलिस ने उनके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की। एक अधिकारी ने सोमवार को बताया कि जुलूस में लड़कियों को बंदूक से हवा में गोलियां चलाते और तलवारें लहराते देखा गया।

 विश्व हिंदू परिषद पश्चिम बंगाल में बड़े पैमाने पर रामनवमी मनाने की योजना बना रहा है। इस बाबत संगठन ने पूरे राज्य में 700 जुलूस निकालने का फैसला किया है।