waris pathan

याचिकाकर्ता हिंदूसेना ने दिल्ली पुलिस को एआईएमआईएम सांसद असदुद्दीन ओवैसी व पार्टी विधायक वारिस पठान और अकबरुद्दीन ओवैसी के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज किए जाने के निर्देश देने का निवेदन किया। याचिका में कहा गया कि इनके भाषणों से दिल्ली में सांप्रदायिक माहौल बढ़ा।

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने दिल्ली हिंसा के लिए कांग्रेस और आम आदमी पार्टी (आप) को जिम्मेदार ठहराया है। भाजपा ने आरोप लगाते हुए कहा है कि दिल्ली में लोगों को उकसाने का काम कांग्रेस और आम आदमी पार्टी की सरकार कर रही है।

मीडिया से बात करते हुए वारिस पठान ने कहा, 'पिछले कुछ दिनों से मुझे हिंदू धर्म विरोधी बताया जा रहा है। मैं किसी भी हिंदू भाइयों के खिलाफ नहीं हूं। मैंने उस दिन जो कुछ भी कहा वो नागरकिता कानून के खिलाफ गुस्से में कहा।'

वारिस पठान ने बिना नाम लिए कहा कि ‘100 करोड़ (हिंदुओं) पर 15 करोड़ (हिंदू) भारी पड़ेंगे।’ उन्‍होंने कहा कि अगर आजादी दी नहीं जाती तो छीनना पड़ेगा। वारिस पठान के इस बयान के बाद राजनीति गरम हो गई है।

घृणा पैदा करने वाले इस बयान पर मुस्लिम मौलवियों का कहना है कि हिंदू मुसलमान के साथ खड़ा है और मुसलमान हिंदू के साथ खड़ा है। इस तरह की विचारधाराओं से देश को नुकसान होगा।