इन बॉलीवुड सितारों ने फेयरनेस क्रीम के विज्ञापनों को कहा ‘न’

पिछले साल एक्टर अभय देओल ने बॉलीवुड सितारों द्वारा किए जाने वाले फेयरनेस क्रीम के विज्ञापनों पर आलोचना की थी। इसके बाद सुशांत सिंह राजपूत ने इस बात पर स्टैंड लिया है। खबरों के मुताबिक सुशांत ने हाल ही में 15 करोड़ के फेयरनेस क्रीम के विज्ञापन को करने से इनकार कर दिया। सुशांत ने कहा- हर एक्टर की यह जिम्मेदारी है कि वह समाज में सही संदेश भेजे। सुशांत के मुताबिक- वह किसी भी स्किन कलर को कम नहीं आंकते।
इन एक्टर्स ने भी कहा न
2011 में रणबीर कपूर ने फेयरनेस एड करने से मना कर दिया था और उन्होंने कहा था ऐसी क्रीम्स कुछ नहीं करतीं सिर्फ रेसिज्म फैलाती हैं।
कंगना रानौत को भी फेयरनेस प्रोडक्ट्स कंपनी ने 2 करोड़ रुपये के साथ एड के लिए संपर्क किया था। कंगना ने कहा- मैं बचपन से गोरेपन के कांसेप्ट को नहीं समझ पायी। मुझे इस ऑफर को न कहने पर कोई पछतावा नहीं है। पब्लिक फिगर होने के नाते मेरी भी कोई जिम्मेदारी है।
स्वरा भास्कर को 2015 में स्किन केयर ब्रांड ने संपर्क किया था। स्वरा ने कहा था- स्किन कलर को लेकर यह मानसिकता खत्म होनी चाहिए। कोई भी स्किन कलर निगेटिव या पॉजिटिव नहीं होता। यह सिर्फ रेसिज्म का बीज है, जो लोगों में आत्मविश्वास को कम करता है।
रणदीप हुड्डा ने भी फेयरनेस एड नहीं किए। उन्होंने कहा- मुझे लगता है कि पुरुष टॉल, डार्क और हैंडसम ही अच्छे लगते हैं। 
इस लिस्ट में कल्कि कोचलिन का नाम भी शामिल है। उन्होंने कहा- गोरा होने में कोई परेशानी नहीं है, लेकिन डार्क स्किन भी उतनी ही खूबसूरत होती है जितनी कि फेयर, लेकिन भारत में लेकर इसका भेदभाव बहुत ज्यादा है। मैं एंटी एजिंग क्रीम को प्रमोट कर सकती हैं लेकिन फेयरनेस क्रीम को नहीं।
Facebook Comments