राजपथ की तस्वीर खींच लीजिए, पाँच साल में मोदी सरकार बना देगी सपने से भी सुंदर!

प्रोजेक्ट में सबसे अहम संसद का नए सिरे से निर्माण करना है। मौजूदा संसद साल 1911 की बनी हुई है। यह इमारत पुरानी हो चुकी है। नए परिसीमन की सूरत में अधिक सांसद आएंगे तो इसमें स्पेस भी नहीं रह जाएगा।

Written by: September 13, 2019 11:57 am

नई दिल्ली। मोदी सरकार संसद के आसपास के इलाकों की तस्वीर बदलने जा रही है। संसद के नजदीक यह राजपथ का वह इलाका है जिसमें राष्ट्रपति भवन से लेकर इंडिया गेट तक कई इमारतें और प्रतिष्ठान शामिल हैं। सरकार ने इस पूरे क्षेत्र को नए सिरे से डेवलप करने का प्लान तैयार किया है। इस प्लान को सेंट्रल विस्टा का नाम दिया गया है।

modi government

इस प्लान के तहत मोदी सरकार साल 2024 से पहले ही संसद भवन और आसपास के भवनों की तकदीर बदल देगी। यह पूरे 4 किलोमीटर का एरिया होगा जिसमें केंद्रीय सचिवालय, संसद भवन, राजपथ समेत तमाम मंत्रालयों की इमारतें शामिल होंगी। केंद्रीय सचिवालय को भी नए तरीके से निर्मित किया जाएगा ताकि सरकार के सभी मंत्रालय एक ही जगह से काम करना शुरू कर दें।

India Gate Road

इस प्रोजेक्ट में सबसे अहम संसद का नए सिरे से निर्माण करना है। मौजूदा संसद साल 1911 की बनी हुई है। यह इमारत पुरानी हो चुकी है। नए परिसीमन की सूरत में अधिक सांसद आएंगे तो इसमें स्पेस भी नहीं रह जाएगा। सरकार ने इस महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट के लिए राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय कंपनियों से प्रस्ताव मांगे हैं।

Parliament

15 अक्टूबर तक इन कंपनियों को अपना प्रस्ताव देना होगा। मोदी सरकार के इस पांच सालों में ही यह प्रोजेक्ट पूरा कर लिया जाएगा। इसके तहत ऐसी नई इमारतें बनाई जाएंगी जो कम से कम 200 साल तक इस विरासत को सजों सकें।