क्या पद्य विधा की रचनाओं में लयात्मकता जरूरी है?

क्या पद्य विधा की रचनाओं में लयात्मकता जरूरी है?