‘सरकारी अस्पतालों में सुविधा बढ़ाकर दिल्ली के प्राइवेट अस्पतालों को बर्बाद करना चाहते हैं केजरीवाल- तिवारी’, जानिए सच क्या है?

बीजेपी सांसद और दिल्ली में बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी और आम आदमी पार्टी के मुखिया व सीएम केजरीवाल के बीच सियासी बयान मीडिया की सुर्खियां बने हैं।

Written by: November 16, 2019 2:50 pm

नई दिल्ली। बीजेपी सांसद और दिल्ली में बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी और आम आदमी पार्टी के मुखिया व सीएम केजरीवाल के बीच सियासी बयान मीडिया की सुर्खियां बने हैं। कई बार देखा गया है कि बयान का गलत मतलब निकालकर या बयान को गलत ढंग से पेश कर वायरल करने की कोशिशें भी सोशल मीडिया पर हुई हैं।

manoj Tiwari arvind

मनोज तिवारी ने एंबुलेंस रोकने वाली फेक वीडियो के बाद अब एक खबर की कटिंग वायरल की जा रही है जिसका शीर्षक कुछ इस तरह दिया है, ” सरकारी अस्पतालों में  सुविधा बढ़ाकर दिल्ली के प्राइवेट अस्पतालों को बर्बाद करना चाहते हैं केजरीवाल: तिवारी”


इस खबर में आगे ये भी लिखा है कि ”दिल्ली भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी ने कहा है कि दिल्ली की हर कालोनी और गांव में मोहल्ला क्लीनिक खोलकर केजरीवाल सरकार दिल्ली के प्राइवेट नर्सिंग होम और प्राइवेट अस्पताल को बर्बाद करना चाहती है। भाजपा इसके सख्त खिलाफ है और जरूरत पड़ी तो कोर्ट तक जाएंगे”

असर क्या हुआ?

manoj tiwari

मनोज तिवारी के इस स्टेटमेंट की कटिंग को फेसबुक और ट्वीटर पर शेयर किया जा रहा है।  कुछ कटिंग में ये साफ नहीं है कि खबर कब और कहां की है तो वहीं कुछ में इसे आजतक का हवाले से बताया है।

फैक्ट क्या है?

manoj tiwari arvind kejriwal

सांसद मनोज तिवारी और केजरीवाल सरकार के बीच सियासी घमासान जगजाहिर है। सोशल मीडिया पर सरकारी अस्पतालों और दिल्ली के प्राइवेट अस्पतालों को लेकर जो कंटेंट वायरल हो रहा है वह वास्तविक नहीं है। अस्पताल की खस्ताहाल व्यवस्था को लेकर मनोज तिवारी कई बार केजरीवाल सरकार पर निशाना साध चुके हैं। हाल ही में फिर दिल्ली के सरकारी अस्पतालों पर केजरीवाल सरकारी की बेरुखी का आरोप लगाकर निशाना साधा था। वायरल कंटेंट को रिवर्स इमेज सर्च करने पर भी पाया कि ऐसा कोई बयान बीजेपी सांसद मनोज तिवारी का नहीं आया है।  जाहिर है यह न्यूज कटिंग फर्जी है ।


सच/अफवाह

वायरल कटिंग का कंटेट सच नहीं है।