क्या वाकई मनोज तिवारी के लिए दिल्ली पुलिस ने रोकी एंबुलेंस, जानिए सच क्या है

वायरल वीडियो में इस बार बीजेपी के बड़े नेता का नाम जोड़ा जा रहा है। बीजेपी सांसद और दिल्ली के प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी का नाम जोड़कर यह वीडियो वायरल हो रहा है। फेसबुक यूजर राम प्रसाद शर्मा ने एक वीडियो शेयर किया जिसमें कैप्शन दिया गया कि “भाजपा सांसद मनोज तिवारी के लिए दिल्ली पुलिस ने एम्बुलेंस रोकी,….
एम्बुलेंस में जिन्दगी और मौत से लड़ रही बच्ची थी .और अंत में बच्ची ने दम तोड़ दिया !

Written by: September 20, 2019 1:56 pm

खबर जो वायरल हुई
सोशल मीडिया पर एक वायरल वीडियो में इस बार बीजेपी के बड़े नेता का नाम जोड़ा जा रहा है। बीजेपी सांसद और दिल्ली के प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी का नाम जोड़कर यह वीडियो वायरल हो रहा है। फेसबुक यूजर राम प्रसाद शर्मा ने एक वीडियो शेयर किया जिसमें कैप्शन दिया गया कि-

“भाजपा सांसद मनोज तिवारी के लिए दिल्ली पुलिस ने एम्बुलेंस रोकी,….
एम्बुलेंस में जिन्दगी और मौत से लड़ रही बच्ची थी .और अंत में बच्ची ने दम तोड़ दिया !

आज आपने शेयर नही किया तो आपके साथ भी ये हो सकता है आज से whatsapp चलाना छोड़ दो या फिर ये वीडियो पूरी दुनिया मे भेज दो और आगे आपकी मर्जी है👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻”

असर क्या हुआ-
इस वीडियो को कई लोगों ने शेयर किया वहीं करीब 60 हजार लोगों ने इसे देखा। वहीं सोशल मीडिया के और भी कई यूजर्स बिना तथ्यों के जाने इस वीडियो को शेयर करने लगे।

फैक्ट क्या है?

सांसद मनोज तिवारी को लेकर यह वीडियो पहली बार नहीं वायरल किया गया है। इससे पहले भी यह कोशिश की गई थी। इसी वर्ष मार्च-अप्रैल में इस वीडियो को इसी कंटेंट के साथ लोगों ने शेयर किया था।

असल में यह वीडियो साल 2017 का है। प्रीत नरुला नाम के फेसबुक यूजर ने इस घटना को लाइव किया था। वीडियो में यह कहते सुना जा सकता है कि वीआईपी कल्चर की वजह से क्या एंबुलेंस को जाने नहीं दिया जाएगा। करीब दो मिनट के इस वीडियो में देखा जा सकता है कि लोगों को ऐतराज के बाद एंबुलेंस को रास्ता दे दिया जाता है।

vips are more important then child in ambulance

Posted by Preet Narula on 2017 m. kovo 31 d., penktadienis

उस समय न्यूज बेवसाइट, समाचार पत्र और न्यूज एंजेंसी द्वारा बताया गया था कि यह घटना दिल्ली में स्थित इंदिरा गांधी इंडोर स्टेडियम के गेट नंबर 14 के सामने हुई थी। इन गाड़ियों को रोकनी की असल वजह भारतीय मेहमान और मलेशिया के पूर्व प्रधानमंत्री मोहम्मद नजीब तुन रज़ाक की आवाजाही थी। वहीं हाल ही में इस खबर को कांग्रेस के कार्यकर्ता @INC_GAURAV_
द्वारा शेयर करने पर खुद बीजेपी सांसद मनोज तिवारी ने राहुली गांधी टैग करते हुए ट्वीट किया और इस वायरल वीडियो को फेक बताया। जिसके बाद अब ट्वीटर पर @INC_GAURAV_ के अकाउंट  को सस्पेंड कर दिया गया है।

सच/अफवाह

यह अफवाह फैलाकर छवि खराब करने की कोशिश है जो कि पिछले लंबे समय से की गई।