Connect with us

दुनिया

India China Relation: आखिर चीनी विदेश मंत्री Wang Yi क्यों एस जयशंकर के एक बयान की तारीफ कर रहे हैं? नए भारत का नया रुतबा तो देखिए

India China Relation: चीन के हवाले से भारत को लेकर एक ऐसी खबर आई है, जिस पर यकीन होना मुश्किल है। दरअसल, चीन के विदेश मंत्री वांग यी (Wang Yi) ने भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर (S Jaishankar) के उस बयान की तारीफ कर डाली हैं, जिसमें उन्होंने भारत और चीन के रिश्तों पर यूरोप के दबदबे को नकारा था।

Published

on

s jaishankar and wang yi

नई दिल्ली। भारत और चीन के रिश्तों (India China Relation) पर बात करना ज्यादा जटिल मुद्दा नहीं है। जगजाहिर है कि भारत और चीन (India and China) के रिश्ते पिछले कई समय से अच्छे नहीं रहे हैं। इसके अलावा दोनों देशों के बीच सीमा पर भी विवाद चल रहा है। पिछले साल 2020 लद्दाख सीमा (Ladakh Border) पर भारतीय और चीनी सेना (Indian and Chinese Army) के बीच खूनी झड़प भी हो चुकी है। ऐसे में दोनों देशों के बीच के रिश्तों की व्याख्या करना कठीन नहीं है। बावजूद इसके आज भी दोनों देशों के बीच व्यापारिक रिश्तों में कोई कमी नहीं आई है। अमेरिका के बाद चीन आज भी भारत दूसरा सबसे बड़ा व्यापारिक साझेदार है। इन सब के बाद चीन के हवाले से भारत को लेकर एक ऐसी खबर आई है, जिस पर यकीन होना मुश्किल है। दरअसल, चीन के विदेश मंत्री वांग यी (Wang Yi) ने भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर (S Jaishankar) के उस बयान की तारीफ कर डाली हैं, जिसमें उन्होंने भारत और चीन के रिश्तों पर यूरोप के दबदबे को नकारा था।


भारत ने यूरोप के दबदबे को नकारा- वांग यी

बता दें कि विदेश मंत्री ने बीते 3 जून को स्लोवाकिया की राजधानी ब्रातिस्लावा में एक कॉन्फ्रेंस को दौरान जयशंकर ने कहा था कि यूरोप को इस मानसिकता से बाहर निकलना चाहिए कि उसकी दिक्कतें दुनिया की भी दिक्कतें हो सकती है, लेकिन दुनिया की दिक्कतें उसकी दिक्कतें नहीं हो सकती है। एस जयशंकर यूक्रेन युद्ध को लेकर एक कार्यक्रम में सवालों के जवाब दे रहे थे। अब इसी बयान को लेकर चीन के विदेश मंत्री ने एस जयशंकर समेत भारतीय विदेश निती की तारीफ कर दी है। वांग यी ने अपने बयान में कहा कि ‘हाल ही में भारतीय विदेश मंत्री एस जयशंकर ने सार्वजनिक रूप से यूरोप के दबदबे को नकारते हुए भारत और चीन के रिश्तों में बाहरी ताकतों के दखल पर आपत्ति जताई थी। यह भारत की आजादी की परंपरा को दिखाता है।’ इसके साथ ही चीनी विदेश मंत्री ने ये भी कहा कि भारत और चीन को खुद के और दुनिया के अन्य विकासशील देशों के हितों की रक्षा के लिए मिलकर काम करना चाहिए।

s jaishankar

वांग यी के इस बयान से पता चलता है कि आज का भारत अब वास्तव में अपने नियम और फैसले दुनियां के सामने बिना किसी डर के रख रहा है। इसके अलावा चीन भी अब भारत की बड़ती ताकत को एहसास कर रहा है।

Advertisement
Advertisement
Advertisement