पाकिस्तान के आतंकवाद से निपटने के दावों की अमेरिकी ने ऐसे खोल दी पोल

अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने आतंकवाद पर अपनी सालाना रिपोर्ट में यह बात कही है कि वहां अब भी आतंकियों की भर्ती हो रही है और वे फंडिंग जुटा रहे हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि पाकिस्तान लश्कर-ए-तैयबा और जैश-ए-मोहम्मद जैसे आतंकी संगठनों पर रोक लगाने में असफल रहा है।

Avatar Written by: November 2, 2019 2:17 pm

नई दिल्ली। पड़ोसी देश पाकिस्तान हमेशा से अपनी जमीन पर आतंकवाद को बढ़ावा देता रहा है और यही वजह है कि दुनिया में वो आज अलग-थलग पड़ चुका है। अब एक अमेरिकी रिपोर्ट में नया खुलासा हुआ है और पाकिस्तान ने जो दावा किया था कि वो आतंकवाद से निपटने की कोशिश कर रहा उसके इस दावे की पोल खुल गई है।

donald trump imran khan

अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने आतंकवाद पर अपनी सालाना रिपोर्ट में यह बात कही है कि वहां अब भी आतंकियों की भर्ती हो रही है और वे फंडिंग जुटा रहे हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि पाकिस्तान लश्कर-ए-तैयबा और जैश-ए-मोहम्मद जैसे आतंकी संगठनों पर रोक लगाने में असफल रहा है। ये संगठन लगातार आतंकियों की भर्ती कर रहे हैं और फंड भी जुटा रहे हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि कई ऐसे संगठन भी हैं, जो विदेशी धरती पर हमले की साजिशें रचते हैं।

donald trump

पाकिस्तान की नीयत पर सवाल उठाते हुए अमेरिकी रिपोर्ट में कहा गया है वह लगातार अफगान सरकार और तालिबान के बीच वार्ता को समर्थन की बात करता है, लेकिन अब भी अपने देश में हक्कानी नेटवर्क जैसे खूंखार आतंकी संगठन को पनपने दे रहा है। अमेरिका ने कहा कि यह संगठन अमेरिका और अफगान सरकार के लिए खतरा बनकर उभरा है।

अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने कहा, ‘पाकिस्तान सरकार लश्कर और जैश जैसे खूंखार आतंकी संगठनों पर लगाम कसने में नाकाम रही है। ये संगठन पाकिस्तान में आतंकियों की भर्ती कर रहे हैं, ट्रेनिंग दे रहे हैं। यही नहीं लश्कर से जुड़े कुछ लोगों को पाकिस्तान में जुलाई के आम चुनावों में उतरने का मौका भी दिया गया था।’

Hafiz Saeed

गौरतलब है कि हाफिज सईद के समर्थन वाले 265 उम्मीदवार भी पाकिस्तान में आम चुनाव में उतरे थे। रिपोर्ट में पाकिस्तान को लताड़ते हुए कहा गया, ‘पाकिस्तान ने अपने नैशनल ऐक्शन प्लान में कहा गया है कि किसी सशस्त्र समूह को देश में काम नहीं करने दिया जाएगा। इसके बाद भी कई आतंकी संगठन वहां सक्रिय हैं और दूसरे देशों पर हमलों की साजिशें रचते हैं। इनमें हक्कानी नेटवर्क, लश्कर-ए-तैयबा और जैश-ए-मोहम्मद जैसे खूंखार आतंकी समूह शामिल हैं।’

PM Narendra Modi And Donald Trump

गौरतलब है कि सितंबर में अमेरिका में दौरे में में पीएम नरेंद्र मोदी ने ‘हाउडी मोदी’ इवेंट में अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप की मौजूदगी में पाकिस्तान को आतंकवाद का जनक बताया था।