धारा 370: अब UNSC से मिला पाक को करारा झटका, टूटी ये आखिरी उम्मीद

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद(UNSC) की तरफ से पाकिस्तान को झटका मिला है और यूएनएससी के मौजूदा अध्यक्ष पोलैंड ने साफ कर दिया है कि, नई दिल्ली और इस्लामाबाद को कश्मीर मुद्दे का समाधान द्विपक्षीय स्तर पर ही सुलझाना होगा।

Written by Newsroom Staff August 13, 2019 9:30 am

नई दिल्ली। जम्मू कश्मीर से धारा 370 को हटाए जाने के बाद से पाकिस्तान दर-दर जा कर मदद मांग रहा है लेकिन हर तरफ से पाकिस्तान को मुंह की खानी पड़ रही है। अब संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद(UNSC) की तरफ से पाकिस्तान को झटका मिला है और यूएनएससी के मौजूदा अध्यक्ष पोलैंड ने साफ कर दिया है कि, नई दिल्ली और इस्लामाबाद को कश्मीर मुद्दे का समाधान द्विपक्षीय स्तर पर ही सुलझाना होगा।

UNSC

भारत और पाकिस्तान के बीच तनावपूर्ण कूटनीतिक रिश्तों पर पोलैंड ने पहली बार प्रतिक्रिया दी है। इससे पाकिस्तान की यूएनएससी में फिलहाल कश्मीर मुद्दा उठाने की कोशिशों पर पानी फिर गया है। बता दें कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की अध्यक्षता अगस्त महीने में पोलैंड के पास है। सुरक्षा परिषद के सदस्य देश बारी-बारी से हर महीने अध्यक्षता करते हैं।

पोलैंड की प्रतिक्रिया से पहले शनिवार को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के स्थायी देश रूस ने भी कहा था कि भारत का कदम भारतीय गणराज्य के संविधान के दायरे में ही उठाया गया है। विदेश सचिव विजय केशव गोखले ने दिल्ली के राजनयिकों को सूचित किया था कि विदेश मंत्री जयशंकर ने पोलिश विदेश मंत्री जेसेक जापुतोविक्ज से गुरुवार को फोन पर बातचीत की थी।

imran khan

एक अंग्रेजी अखबार से बातचीत करते हुए भारत में पोलैंड के राजदूत एडम बुराकोव्सकी ने कहा, पोलैंड उम्मीद करता है कि दोनों देश मिलकर द्विपक्षीय स्तर पर समाधान निकाल लेंगे। भारत और पाकिस्तान के बीच मौजूदा तनाव पर चिंता जाहिर करते हुए रराजदूत बुराकोव्सकी ने कहा, पोलैंड का मानना है कि किसी भी विवाद का समाधान शांतिपूर्ण तरीके से ही किया जा सकता है। यूरोपीय यूनियन की तरह हम भी भारत और पाकिस्तान के बीच वार्ता के पक्षधर हैं।

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के अस्थायी सदस्य के तौर पर पोलैंड सुरक्षा स्थिति पर किसी भी तरह का खतरा रोकने के लिए तैयार है। क्षेत्र के हालात पर नजर रख रहे पोलिश राजदूत ने कहा, मैं ‘द्विपक्षीय’ शब्द पर फिर से जोर देना चाहता हूं क्योंकि यही सबसे अहम है।

पोलैंड का ये बयान भारत के ही पक्ष को मजबूत करता है क्योंकि भारत ने हमेशा यही कहा है कि शिमला समझौते, 1972 और लाहौर घोषणा पत्र, 1999 के तहत कश्मीर मुद्दे को भारत-पाकिस्तान के बीच द्विपक्षीय तौर पर ही सुलझाया जाना चाहिए।

हालांकि, पाकिस्तान की इमरान खान सरकार ने संयुक्त राष्ट्र, संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में जाकर कश्मीर मुद्दे को उठाने का फैसला किया है। इस्लामाबाद लंबे वक्त से कश्मीर मुद्दे का अंतरराष्ट्रीयकरण चाहता रहा है। सूत्रों के मुताबिक, इस प्रतिक्रिया की पृष्ठभूमि में 8 अगस्त को हुए विदेश मंत्री एस. जयशंकर और पोलैंड के विदेश मंत्री के बीच हुई बातचीत अहम रही। विदेश मंत्री ने पोलैंड को जम्मू-कश्मीर के बदले स्टेटस को लेकर भारतीय चिंताओं से अवगत कराया।

s jaishankar

पोलिश के विदेश मंत्री के बयान के मुताबिक, जयशंकर ने उन्हें बताया कि भारतीय संविधान के अनुच्छेद 370 के तहत किए गए बदलाव सख्त तौर पर आंतरिक मामला है और इसका मकसद आतंकी हमलों के खतरे से घिरे क्षेत्र में सुरक्षा लाना है। विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने इस बात पर जोर दिया कि संविधान में हुए हालिया बदलावों के किसी भी तरह से वैश्विक नतीजे नहीं होंगे और इससे जम्मू-कश्मीर का अस्थायी दर्जा खत्म कर  क्षेत्र में तरक्की के नए मौके उपलब्ध होंगे।