खुद को भारत का दामाद बताने वाले जॉनसन ने संभाली कमान

ब्रिटेन के नए पीएम अपने निजी जीवन को लेकर भी काफी चर्चित रहे हैं। लंदन के मेयर से लेकर विदेश मंत्री और फिर प्रधानमंत्री तक का सफर तय करने वाले बेरिस जॉनसन का सफर बहुत दिलचस्प रहा है।

Written by: July 24, 2019 1:45 pm

नई दिल्ली। ब्रिटेन के नए प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने बुधवार को पद संभाल लिया है। ब्रेग्जिट के घनघोर समर्थक और दक्षिणपंथ की तरफ झुकान रखने वाले जॉनसन को ब्रिटेन का डोनाल्ड ट्रंप कहा जाता है। ब्रिटेन के नए पीएम अपने निजी जीवन को लेकर भी काफी चर्चित रहे हैं। लंदन के मेयर से लेकर विदेश मंत्री और फिर प्रधानमंत्री तक का सफर तय करने वाले बेरिस जॉनसन का सफर बहुत दिलचस्प रहा है।

narendra modi and Boris Johnson

डोनाल्ड ट्रंप की अमेरिका फर्स्ट की तर्ज पर कंजरवेटिव पार्टी के बोरिस जॉनसन भी ब्रेग्जिट के घनघोर समर्थक हैं। जॉनसन को विश्व के प्रमुख दक्षिणपंथी टॉप नेताओं में गिना जाता है। प्रधानमंत्री बनते ही उन्होंने एक बार फिर दोहराया कि वह देशवासियों को एकजुट करने और इंग्लैंड के विकास के लिए काम करेंगे।

बोरिस जॉनसन और ट्रंप दोनों का ही विवादों से पुराना नाता रहा है। जॉनसन लंदन के मेयर रहने के दौरान खुद को भारतीय समुदाय के बीच बार-बार भारत का दामाद कहते थे। जॉनसन का भारत के साथ खास कनेक्शन है। उनकी पहली पत्नी मरीना व्हीलर का संबंध भारत से है। मरीना की मां एक भारतीय मूल के सिख परिवार से ताल्लुक रखती थीं।

Theresa May and Boris Johnson

पीएम बनने के साथ ही उन्होंने भारत के साथ सक्रिय और मजबूत रिश्तों की बात दोहराई और कहा कि प्रधानमंत्री मोदी और भारत दोनों से उनका निजी रिश्ता है। प्रधानमंत्री पद के दावेदार के तौर पर भी उनका महिला मित्र के साथ हुआ झगड़ा मीडिया में काफी चर्चित रहा था। 2004 में बोरिस को प्रेम संबंधों के बारे में जानकारी नहीं देने के कारण कंजरवेटिव पार्टी से निकाला भी गया था।

Boris Johnson resigns as British foreign secretary

पारंपरिक राजनेता की छवि को तोड़ते हैं जॉनसन

बोरिस जॉनसन और डोनाल्ड ट्रंप दोनों ही पारंपरिक राजनेता की छवि में मिसफिट हैं। ट्रंप पर कई बार प्रोटोकॉल उल्लंघन, मीडिया पर आरोपों की बौछार और विरोधियों पर तल्ख बयानी के आरोप लगे हैं। अमेरिका के राष्ट्रपति बनने से पहले ट्रंप जाने-माने उद्योगपति रह चुके हैं। जॉनसन ने अपनी यात्रा बतौर पत्रकार शुरू की और फिर वह लंदन के मेयर, विदेश मंत्री और अब जाकर प्रधानमंत्री बने।