हाफिज सईद का बेहद खास है बगदादी का नया उत्तराधिकारी, अमेरिका के संपर्क में हैं खुफिया एजेंसियां

कारदाश ने अगस्त महीने मे कमान संभालने के फौरन बाद अपने खास लोगो को संदेश दिया था कि दुनियाभर के लोगों को इस्लामिक स्टेट की लड़ाई में शामिल किया जाए। 

Written by: October 28, 2019 6:22 pm

नई दिल्ली। बगदादी का नया उत्तराधिकारी अब्दुल्ला कारदाश पाकिस्तान में बैठे आतंक के सरगनाओं का बेहद करीबी है। हाफिज सईद के साथ उसकी विशेष नज़दीकियां हैं।  खुफिया एजेंसी को आशंका है कि हाफिज सईद के साथ मिलकर वह कश्मीर में आतंकवाद का नासूर पैदा करने की कोशिश कर सकता है। कारदाश ने अगस्त महीने मे कमान संभालने के फौरन बाद अपने खास लोगो को संदेश दिया था कि दुनियाभर के लोगों को इस्लामिक स्टेट की लड़ाई में शामिल किया जाए।

उसके इस हुक्म के पीछे हाफिज सईद की भी अहम भूमिका थी। इसी संदेश को कश्मीर के नाम पर आगे बढ़ाकर युवाओं को आतंकवाद की राह में झोंकने का काम किया गया। हाफिज सईद ने इसके लिए इस्लामिक देशों से गुजारिश भी की थी।

अब्दुल्ला कारदाश को अपने जीते जी बगदादी ने अपना वारिस बनाया था। अब बगदादी के मरने के बाद उसे आईएस का अंतरिम प्रमुख बनाया गया है। आशंका है कि वह कश्मीर में आतंकी साजिशों के लिए लड़ाकुओं की भर्ती का अभियान तेज़ कर सकता है।

hafiz saeed

खुफिया एजेंसियों को इस बात की आशंका उसके पिछले रिकॉर्ड को देखते हुए है। वह पहले इराक के तानाशाह सद्दाम की फौज में अधिकारी था। कारदाश और बगदादी एक साथ साल 2003-04 मे जेल में भी रहे थे। कारदाश को उसके काले कारनामो की वजह से प्रोफेसर और डिस्ट्रॉयर के नाम से भी जाना जाता है। जानकारी के मुताबिक कारदाश ने दुनियाभर में अपनी जैसी मानसिकता वाले लोगों से लगातार संपर्क बनाया हुआ है और उनमें पाकिस्तान के कई नाम शामिल हैं।

यही वजह है कि खुफिया एजेंसियां उसे लेकर बेहद सतर्क हैं। भारत की एजेंसियां अमेरिका की एजेंसियों के संपर्क में हैं। अमेरिका इस बात का पहले ही ऐलान कर चुका है कि उसकी बगदादी के उत्तराधिकारियों पर पूरी नज़र है।