हाफिज सईद की गिरफ्तारी पर अब ट्रंप को भी शक

अब ट्रंप प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ‘हमने पहले भी इस तरह का ऐक्शन देखा है। ऐसे में इस बार हम केवल दिखावा नहीं ठोस कार्रवाई देखना चाहते हैं।’ आपको बता दें कि अगले हफ्ते पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान अमेरिका जा रहे हैं। समझा जा रहा है कि आतंकवाद पर घिरने के बाद पाक पीएम ने दुनिया को दिखाने के लिए इस तरह का ऐक्शन उठाया है।

Written by: July 20, 2019 1:36 pm

नई दिल्ली। हाफिज सईद की गिरफ्तारी को लेकर अमेरिका ने भी शक जताया है। अमेरिकी ट्रंप प्रशासन का कहना है कि पहले भी कई बार हाफिज को जेल में डाला जा चुका है लेकिन इससे कुछ भी नहीं बदला, न उसकी और न ही उसके आतंकी संगठन लश्कर-ए-ताइबा की गतिविधियों पर ही लगाम लग सकी।

हालांकि बता दें कि हाफिज की ये गिरफ्तारी पहली बार नहीं है, बल्कि दिसंबर 2001 में भारतीय संसद पर आतंकी हमले के बाद से अबतक 6 बार ये आतंकी गिरफ्तार हो चुका है।

donald trump 1

चूंकि डोनाल्ड ट्रंप ने अपनी सरकार को क्रेडिट देते हुए कहा था कि 10 साल के सर्च के बाद आखिरकार मुंबई हमले के मास्टरमाइंड को पाकिस्तान में गिरफ्तार किया गया है। उन्होंने कहा था कि पिछले 2 साल में उसे पकड़ने के लिए काफी दबाव बनाया गया था।

हाउस फॉरन अफेयर्स कमिटी ने ट्रंप के ट्वीट को रीट्वीट करते हुए लिखा, ‘आपकी जानकारी के लिए, पाकिस्तान उसे 10 वर्षों से खोज नहीं रहा था। वह आजाद था और दिसंबर 2001, 2002, अगस्त 2006, दिसंबर 2008, सितंबर 2009 और जनवरी 2017 में गिरफ्तार और रिहा हुआ।’ आखिर में लिखा है, ‘उसे दोषी ठहराए जाने तक इंतजार कीजिए।’

donald-trump-

अब ठोस कार्रवाई चाहता है अमेरिका
अब ट्रंप प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ‘हमने पहले भी इस तरह का ऐक्शन देखा है। ऐसे में इस बार हम केवल दिखावा नहीं ठोस कार्रवाई देखना चाहते हैं।’ आपको बता दें कि अगले हफ्ते पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान अमेरिका जा रहे हैं। समझा जा रहा है कि आतंकवाद पर घिरने के बाद पाक पीएम ने दुनिया को दिखाने के लिए इस तरह का ऐक्शन उठाया है।

US ने कहा, आतंकियों को सेना करती है सपॉर्ट
पाकिस्तान द्वारा आतंकी संगठन के खिलाफ उठाए गए कदमों के बारे में पूछे जाने पर अधिकारी ने कहा, ‘हम आपको आश्वस्त करते हैं कि हमारी नजर इस पर है। हम इस बात को लेकर किसी भ्रम में नहीं है कि पाकिस्तान की सैन्य खुफिया सेवा इन संगठनों को कितना सपॉर्ट करती है। ऐसे में हम ठोस ऐक्शन देखना चाहेंगे।