Sat, 14 Dec, 2019

लंदन में नीरव मोदी की जमानत याचिका फिर से की गई खारिज

लंदन की एक अदालत ने शुक्रवार को भगोड़े हीरा कारोबारी नीरव मोदी की जमानत याचिका खारिज कर दी और उसकी न्यायिक हिरासत अवधि 24 मई तक बढ़ा दी है।

Written by: April 26, 2019 6:39 pm

नई दिल्ली। लंदन की एक अदालत ने शुक्रवार को भगोड़े हीरा कारोबारी नीरव मोदी की जमानत याचिका खारिज कर दी और उसकी न्यायिक हिरासत अवधि 24 मई तक बढ़ा दी है। अदालत को संदेह था कि वह ब्रिटेन से भाग सकता है और ‘सबूतों के साथ छेड़छाड़’ कर सकता है।

Nirav Modi

वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट की अदालत ने मेट्रोपॉलिटन पुलिस को उसे 24 मई को अगली सुनवाई तक न्यायिक हिरासत में रखने के आदेश दिए।
48 वर्षीय व्यापारी 13,500 करोड़ रुपये के पंजाब नेशनल बैंक(पीएनबी) धोखाधड़ी मामले में वांछित है। उसे 19 मार्च को लंदन के होलबॉर्न से गिरफ्तार किया गया था, तब से वह लंदन में प्रत्यर्पण कार्यवाही का सामना कर रहा है।

nirav modi
नीरव मोदी को दक्षिण-पश्चिम लंदन के वांड्सवर्थ जेल से अदालत के समक्ष वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए पेश किया गया। पीएनबी ने आरोप लगाया था कि नीरव मोदी और उसके चाचा मेहुल चोकसी ने उसके कुछ कर्मचारी की मिलीभगत से 13,500 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी की है, जिसके बाद से प्रवर्तन निदेशालय(ईडी) और केंद्रीय जांच ब्यूरो(सीबीआई) मामले की जांच कर रही हैं।

enforcement directorate
जनवरी 2018 में इस धोखाधड़ी की खबर सामने आने से पहले दोनों भारत से भाग गए थे। यह तीसरी बार है, जब अदालत ने भगोड़े व्यापारी की जमानत याचिका खारिज कर दी है। न्यायमूर्ति इम्मा अरबुथनॉट ने 29 मार्च को मेट्रोपॉलिटन पुलिस को नीरव मोदी को हिरासत में लेने की मंजूरी दी थी।